Education

धनुष यज्ञ किसके द्वारा आयोजित किया गया था?

dhanush yagya kiske dwara aayojit kiya gaya hai

रामायण के अंतर्गत जब भगवान श्री राम और माता सीता का विवाह हुआ था, तो उसके लिए माता सीता के लिए एक स्वयंवर की व्यवस्था की गई थी और उस पर स्वयंवर के लिए धनुष यज्ञ किया गया था।

हम सभी ने धनुष यज्ञ के बारे में काफी बातें सुनी है, और समय-समय पर धनुष यज्ञ कई राजाओं महाराजाओं के द्वारा आयोजित किया गया था। ऐसे ही कई धनुष यज्ञ महाभारत काल में भी आयोजित किया गया था।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि धनुष यज्ञ के किसके द्वारा आयोजित किया गया था? यदि आप नहीं जानते और जानना चाहते हैं कि धनुष यज्ञ किसके द्वारा आयोजित किया गया था या धनुष यज्ञ क्या होता है, तो आज के लेख में हम आपको धनुष यज्ञ के बारे में सारी जानकारी देंगे। तो चलिए शुरू करते हैं:-

धनुष यज्ञ क्या है? | What is Dhanush Yagya?

धनुष यज्ञ मूल रूप से एक ऐसा यज्ञ होता है जोकि स्वयंवर के दौरान किया जाता है। स्वयंवर के दौरान एक पिता अपनी पुत्री के हित के लिएऔर भविष्य में आने वाली खुशियों के लिए एक महान यज्ञ आयोजित करता है। उसे यज्ञ के दौरान कई महान राजाओं और महान हस्तियों को निमंत्रण भेजा जाता है, ताकि वे लोग आकर उस पर और धनुष यज्ञ का हिस्सा बन सकें।

उस स्वयंवर को जीतने के लिए जो भी व्यक्ति उस धनुष को उठाकर एक निश्चित लक्ष्य को साधित करते हैं वह व्यक्ति सफलतापूर्वक पूरे स्वयंवर में विजेता माना जाता है। पुराने समय में विश्व के सबसे महानतम धनुष को धनुष यज्ञ में सम्मिलित किया जाता था, और जैसा कि हम जानते हैं कि भगवान महाविष्णु और भगवान शिव संपूर्ण विश्व के सर्वोत्तम धनुर्धारी है। और उनसे बड़े धनुर्धारी ने कोई व्यक्ति बन सकता है फोन नहीं पैदा हो सकता है।

हालांकि भगवान महाविष्णु और भगवान शिव मनुष्य की श्रेणी में नहीं आते हैं, लेकिन फिर भी एक धनुर्धारी की श्रेणी में जरूर आते हैं और इसीलिए ऐसे महान हस्तियों देवताओं के धनुष को धनुष यज्ञ में शामिल किया जाता था। एक सफलतापूर्वक संपूर्ण किए गए धनुष यज्ञ के पश्चात यह माना जाता है कि जो भी लड़की स्वयंवर के द्वारा शादी करती है, उसका भविष्य सदैव उज्जवल रहता है।

एक धनुष यज्ञ में किसी भी महापुरुष को उठाकर उस धनुष की प्रत्यंचा को धनुष पर चढ़ा दी होती है, इसके पश्चात एक विशेष इतनी से उसे धनुष की सहायता से एक निश्चित लक्ष्य पर तीर चलाया जाता है। यदि वह की सफलतापूर्वक अपने लक्ष्य का गठन कर देता है तो उसी समय धनुष यज्ञ समाप्त हो जाता है और स्वयंवर भी समाप्त हो जाता है।

धनुष यज्ञ कब कब आयोजित किया गया? | When and when Dhanush Yagya was organized?

धनुष यज्ञ पुरातन समय में महाभारत काल में आयोजित किया गया था जो कि द्रौपदी के विवाह के लिए उसके पिता राजा द्रुपद के द्वारा आयोजित किया गया था। जिसमें अर्जुन ने धनुष यज्ञ के अंतर्गत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए स्वयंवर में द्रोपदी अपनी अर्धांगिनी के रूप में स्वीकार किया, और द्रौपदी ने अर्जुन को अपने पति के रूप में चुना।

उससे भी पहले भगवान श्री राम और माता सीता के विवाह के समय माता सीता के पिता राजा जनक जोकि मिथिला राज्य के राजा थे, उन्होंने अपनी पुत्री सीता अर्थात जानकी के लिए स्वयंवर का आयोजन किया था और यह स्वयंवर पूरा नहीं हो पाया, और धनुष यज्ञ भी संपूर्ण नहीं हो पाया क्योंकि इस स्वयंवर में यानि कि धनुष यज्ञ में भगवान शिव के पिनाक धनुष का इस्तेमाल किया गया था, और भगवान श्री राम ने धनुष पर प्रत्यंचा चढ़ाते समय धनुष को तोड़ दिया था, जिसके कारण वह धनुष जिसे कोई व्यक्ति उठा भी नहीं पा रहा था, उसे भगवान श्रीराम ने उठाकर एक खिलौने की भांति तोड़ दिया था, जिसके पश्चात माता सीता ने प्रभु श्री राम को अपने अर्धांग के रूप में स्वीकार किया।

धनुष यज्ञ किसके द्वारा आयोजित किया गया था? | Dhanush Yajna was organized by whom?

धनुष यज्ञ समय-समय पर राजकुमारी के विवाह के लिए उस राजकुमारी के पिता के द्वारा स्वयंवर के दौरान आयोजित किया जाता है, और प्राचीन काल में द्रोपदी के पिता राजा द्रुपद और माता पार्वती यथार्थ जानकी के पिता जनक ने धनुष यज्ञ का आयोजन किया था।

Also read:

प्राकृतिक संख्या किसे कहते हैं? फार्मूला और विशेषता राष्ट्रपति का चुनाव कौन करता है?
आंध्र प्रदेश की भाषा क्या है? और कितनी भाषाएं बोली जाती है? ‘अहिंसा परमो धर्मः’ का पूरा श्लोक क्या है?
राजनीति की गूंगी गुड़िया किस नेता को कहा जाता है और क्यों रामचरितमानस के रचयिता कौन है?
नाबालिक क्या होता है? नाबालिक और नाबालिग में अंतर महाभारत की रचना किसने की और कब किया था?

निष्कर्ष

आशा है या आर्टिकल आपको बहुत पसंद आया हुआ इस आर्टिकल में हमने बताया धनुष यज्ञ किसके द्वारा आयोजित किया गया था? (dhanush yagya kiske dwara aayojit kiya gaya tha) के बारे मे संपूर्ण जानकारी देने की कोशिश की है अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगे तो आप अपने दोस्तों के साथ भी Share कर सकते हैं अगर आपको कोई भी Question हो तो आप हमें Comment कर सकते हैं हम आपका जवाब देने की कोशिश करेंगे।

Related Articles

Back to top button