Education

तुलसीदास के गुरु कौन थे? | tulsidas ke guru ka naam kya tha

tulsidas ke adhyatmik guru kaun the | tulsidas ke diksha guru kaun hai | tulsidas ke guru

नमस्कार दोस्तों, आप ने अपने जीवन के अंतर्गत तुलसीदास के बारे में तो जरूर सुना होगा। तुलसीदास का नाम भारत के इतिहास के सबसे प्रमुख कवियों के अंतर्गत आता है। दोस्तों क्या आप जानते हैं कि तुलसीदास के गुरु कौन थे, यदि आपको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा आप इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं कि तुलसीदास के गुरु कौन थे, हम आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी इस पोस्ट के अंतर्गत शेयर करने वाले हैं। तो ऐसे में आज का की यह पोस्ट आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाली है, तो इसको अंत जरूर पढ़िए।

तुलसीदास के गुरु कौन थे? | tulsidas ke guru kaun the?

दोस्त अक्सर कई अलग-अलग कंपटीशन एग्जाम के अंतर्गत यह सवाल पूछा जाता है, कि तुलसीदास के गुरु कौन थे, और बहुत लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं होती है। यदि आपको भी इसके बारे में जानकारी नहीं है तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि तुलसीदास के गुरु का नाम “श्री नरहरी नंद जी” था, इसके अलावा इनको नरहरिदास बाबा के नाम से भी जाना चाहता था। नरहरिदास बाबा तुलसीदास के गुरु थे तथा यह रामसीन के अंतर्गत रहने वाले थे।

जैसा कि आपको पता होगा कि नरहरी नंद जी के द्वारा ही भगवान शंकर के द्वारा प्रेरणा लेकर रामबोला का नाम तुलसीराम रखा गया था।

तुलसीदास का जन्म कब हुआ था? | tulsidas ka janm kab hua tha?

अगर दोस्तों बात की जाए कि तुलसीदास जी का जन्म कब हुआ था, तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि भारत के इतिहास के सबसे महान कवियों की सूची में आने वाले श्री तुलसीदास जी का जन्म 13 अगस्त सन 1532 को हुआ था।

tulsidas ke guru ka naam kya tha | तुलसीदास के गुरु कौन थे?

राम चरित्र मानस के रचयिता कौन है? | Ram Charitra Manas ke rachayita kaun hai?

दोस्तों आपने अक्सर अपने जीवन के अंतर्गत राम चरित्र मानस के बारे में तो जरूर सुना होगा, यदि आपके मन में भी यह सवाल है, कि राम चरित्र मानस के रचयिता कौन थे, तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूंगी राम चरित्र मानस की रचना महान कवि श्री तुलसीदास जी के द्वारा ही की गई थी।

Also read:

आज आपने क्या सीखा

तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि तुलसीदास जी के गुरु कौन थे, हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत के विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। इसके अलावा हमने आपके साथ इस पोस्ट के अंतर्गत तुलसीदास जी से जुड़ी कुछ अन्य जानकारियां भी शेयर की है। जैसे कि तुलसीदास जी का जन्म कब हुआ था, इनके द्वारा किन-किन प्रमुख ग्रंथों की रचना की गई थी, इसके अलावा तुलसीदास जी के द्वारा रचित राम चरित्र मानस के बारे में भी हमने आपको इस पोस्ट में बताया है।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह इंफॉर्मेशन पसंद आई है, तथा आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है। इस पोस्ट को सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें, तथा इस विषय के बारे में अपनी राय हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं।

FAQ

तुलसीदास जी के इष्ट कौन है?

तुलसीदास जी इष्ट देव ‘प्रभु श्रीराम’ हैं।

तुलसीदास जी की भाषा कौन सी है?

Sanskrit (संस्कृत भाषा)

तुलसी का बचपन कैसे बीता?

आगे किसी भी बुराई से बचने के लिए, पिता ने बच्चे को चुनिया नाम की एक दासी को सौंप दिया और खुद अलग हो गए। जब रामबोला साढ़े पांच साल के हुए, तब चुनाव नहीं हुए थे। वह एक अनाथ की तरह गली-गली भटकने को मजबूर था। इस प्रकार तुलसी का बचपन बड़ी मुसीबतों में बीता।

तुलसीदास का मृत्यु स्थान कौन सा है?

तुलसी ताज्यो शरीर। अर्थात संवत् 1680 में तुलसीदास जी ने श्रावण शुक्ल सप्तमी को गंगा तट पर अपना शरीर त्याग दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button