Education

प्लेट खिसकने का क्या कारण है? | Plate Khisakne Ka Karan Kya Hai

plate khisakne ka karan kya hai in hindi

दोस्तों, आज के समय पूरे विश्व में कहीं ना कहीं भूकंप के झटके हमें महसूस होते रहते हैं। ऐसा कहा जाता है कि धरती के नीचे बड़ी-बड़ी चट्टानों की प्लेट खिसकने के कारण ऐसा होता है, और इसी की वजह से कई बार बड़े-बड़े भूकंप और सुनामी देखने को मिलती है।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्लेट खिसकने का क्या कारण है और आज के समय क्यों बड़ी-बड़ी चट्टानें भूगर्भ में अपने आप ही की जा रही है? इसके पीछे क्या कारण हो सकता है?

यदि आप इन सब के बारे में अनभिज्ञ है तो कोई बात नहीं, क्योंकि आज हम आपको इसके बारे में ज्ञान देने वाले और आपको बताएंगे, कि plate khisakne ka karan kya hai तो चलिए शुरू करते हैं-

प्लेट खिसकने का क्या कारण है? (plate khisakne ka karan kya hai)

Plate Khisakne Ka Karan Kya Hai

मित्रों, अल्फ्रेड का सिद्धांत पृथ्वी के भूगर्भ में बड़े स्थलमंडल अर्थ अर्थ प्लेट के खिसकने का कारण बताता है। जिसका कारण इन महा स्थल मंडलों के मध्य होने वाली गति है।

अर्थात यह स्थलमंडल बहुत ही धीमी गति से गतिमान है।  साथ ही यह स्थलमंडल महाद्वीप और महासागरों के अंतर्गत  पर्वतों के निर्माण में भी अपना योगदान देते हैं। यह महा स्थलमंडल जब गतिमान होते हैं और एक दूसरे से टकराते हैं तब पृथ्वी पर अत्यंत ही विनाशकारी घटनाएं सामने आती है।

प्लेट खिसकने का कारण पृथ्वी के अंदर गैस यह तापमान के अधिक होने की वजह से एक भयंकर प्रेशर पैदा होना तथा गुरुत्वाकर्षण के कारण बड़े-बड़े स्थलमंडल का पृथ्वी के भूगर्भ में स्थित लावा के संपर्क में रहने से पृथ्वी की प्लेट खिसकती है।

हालांकि भारत में भी लेके खिसकने को लेकर संसद में कई बार इसकी बात की गई है। लेकिन राजनीतिक मुद्दे अधिक जोर से चिल्लाकर इस मुद्दे को नीचे दबा देते हैं। ऐसा कहा जाता है कि हर महाद्वीप देश तथा भूमि अपने-अपने गति से गतिमान हैं, और इन सब की भूमिया अपनी अपनी गति से खिसक रही है।

कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि भारत के नीचे प्लेट हर वर्ष 5 सेंटीमीटर पूर्वोत्तर की तरफ खिसक रही है।

यह ग्लोबल पोजिशनिंग को पूरी तरह से बदलने में सहायक है।

भारत में केंद्र सरकार से जब इसके बारे में सवाल पूछा गया था कब तक जवाब ही है मिला था कि भारतीय प्लेट जब यूरेशियन प्लेट से टकराती है तब इन दोनों के मध्य परस्पर होने वाले झुकाव से हिमालय के क्षेत्र भूकंप में आते हैं।

अल्फ्रेड का सिद्धांत क्या है? | alfred ka siddhant kya hai in hindi

plate khisakne ka karan kya hai

महाद्वीपीय विस्थापन का सिद्धांत ही अल्फ्रेड के विस्थापन का सिद्धांत है। अल्फ्रेड वेगनर मूल रूप से जर्मन वैज्ञानिक के अलफ्रेड वेजनर के सारे जितने भी महाद्वीप है। सभी एक बड़े भूखंड से जुड़े हुए हैं, और यह   भूखंड महासागरों से गए हुए हैं।

अलफ्रेड वेगनर ने महाद्वीपों को पेन जिया का नाम दिया और बड़े-बड़े महासागरों को पैन खालसा का नाम दिया था। ऐसा बताया जा रहा है कि जब पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत हुई है।

उससे भी तकरीबन एक करोड़ वर्ष पूर्व तीनों का विस्थापन शुरू हो गया था। यह खंड ही अपने आप में टूट टूट कर महाद्वीपों में विभक्त हो चुके हैं।

प्लेट खिसकने से क्या होता है? | plate Khisakne sa kya hota hai

लेखक ने की इस प्रक्रिया को प्लेट विवर्तनिक करण कहा जाता है और अंग्रेजी में इसे प्लेट टेक्टोनिक कहा जाता है।

प्लेटो के खिसकने से कई प्रकार के महा विनाशकारी घटनाएं देखने को मिलती है। जैसे कि

  • धरती के नीचे खिसकने से भूकंप की घटनाएं सामने आती है।
  • भूस्खलन देखने को मिलता है।
  • धरती में कंपन पैदा होता है।
  • तापमान में वृद्धि होती है।
  • वातावरण का वायुमंडल नष्ट होने लगता है।
  • जीवो के जीवन प्रक्रिया पर असर पड़ता है।
  • प्लेटो के खिसकने से समुद्र में सुनामी आती है।
  • समुद्र अधिक गंदा होता है।
  • वर्षा ऋतु पर फर्क पड़ता है।
  • पुराने ज्वालामुखी बंद होते हैं नए ज्वालामुखी बनाने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है।
  • समुद्र के ज्वालामुखी सक्रिय हो जाते हैं।
  • एक समय पश्चात एसिड रेन होने की संभावनाएं भी होती है।

जमीन में प्लेट कितने प्रकार की होती है?

जमीन में प्लेट्स कई प्रकार की होती है, उनके नाम कुछ इस प्रकार से बताएं जा सकते हैं-

जैसे कि, अरबी प्लेट, कैरिबियन प्लेट, जोन दे फूको प्लेट, कोकोस प्लेट, नाजुका प्लेट, कोशिया प्लेट, जापान प्लेट, मेडागास्कर प्लेट, फिलीपींस सागर प्लेट, ईरानी प्लेट  यह सभी कुछ मध्यम और छोटे  प्लेटे  हैं। र ऐसा माना जाता है कि छोटी प्लेटो की संख्या 100 से भी अधिक है।

प्लेटो की संख्या कितनी है?

दोस्तों ऐसा माना जाता है कि पृथ्वी का ऊपरी भाग तकलीफ 100 से 150 किलोमीटर मोटा है जिसे भूमि के नाम से  जानते हैं। प्लेट शब्द का सबसे पहले उपयोग 1955  में टूजो विल्सन के द्वारा किया गया था।

लेकिन यदि हमें मुख्य बड़ी प्लेट्स की बात करें तो यह 7 प्लेट्स  हैं जिन्हें अफ्रीकन प्लेट, अंटार्कटिक प्लेट, यूरेशियन प्लेट, indo-australian प्लेट, नॉर्थ अमेरिकन प्लेट, साउथ अमेरिकन प्लेट,  पेसिफिक प्लेट के नाम से जाना जाता है।

अंतिम विचार

आज के लेख में हमने आपको प्लेट खिसकने का क्या कारण है इसके बारे में बताया है। इसके अलावा हमने आपको यह भी बताया है कि अल्फ्रेड का सिद्धांत क्या है, और आपको अन्य कई प्रकार की जानकारी दी है।

हम आशा करते हैं कि आज का यह लेख पढ़ने के पश्चात आप यह जान पाएंगे कि जमीन में प्लेट खीसकने का कारण क्या है। जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। यदि आप कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Related Articles

Back to top button