India

जम्मू कश्मीर: जो गांव सेना को दुश्मन मानता था वहां महिलाएं अब बना रही हैं तिरंगे, जानें कैसे आया यह बदलाव

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">श्रीनगर: जम्मू यह हम कह रहे हैं कि यह एक ऐसी तस्वीर है जो संभावित रूप से लोगों के ख़्याल में भी नहीं आएगी। इस तस्वीर के लिए, स्थापत्य के कुपवारा के पास ये स्थान हैं जहां पिस्टल का राज थे और सेना का दुश्मन दुश्मन था। इस प्रकार के कुनन्पोरा, जिसका नाम १९९० में 22 महिलाओं के सजातीय यौन संबंध थे।

आज के दिन से 110 दूर कुपवारा के कुनंपोशपोरा में ऐसी छुट्टी के दिन से पहली बार कैदी रहने वाले में हैं। 15 अगस्त, सेना के फॅाफों के लिए यह काम करता है और कार्य करता है। यह सेना के लिए एक फौजी की तरह काम करता है।

परिवर्तन के एक व्यक्ति में परिवर्तन करने के लिए, विशाल गैर-सरकारी संगठन जो कई लोगों में काम करते हैं। सुरक्षा के मामले में भी बच्चे की स्थिति में सुधार होने पर भी यह स्थिति में लाने के लिए ही बेहतर होगा। कनेक्शंस का प्रसारण और नेटवर्किंग का प्रसारण. यह सेन्टर 17 मार्च 2021 को शुरू हुआ था।

पोस्ट लिखने के लिए जन-अध्यापन कार्य योजना के लिए सेना की सहायता बगुंडा गांव में बनी और कढाई सेन्टर  कुन-पोशपोरा की रक्षा सिखती। काम करने वाले जमीला का कहना है कि सेन्टर सेना की मदद से चलने वाला है। कुन-बबाकुंद और वर्त्तमान के वर्त्तमान सेन्टर इस तरह की लड़कियों को कैरिंग, फैशन डिजाइनिंग का काम है।’ सेन्टर का काम करने वाला जिमीला बानो का कहना है कि एक सेना वर्दीधारी देश सेवा है। हमतिर, हमतिरंगा देशप्रेम की भावना बढ़ाने में योगदान दे रहे हैं।’

40 लड़कियों के लिए व्यायाम करें। के साथ-साथ-साथ डेटिंग भी करते हैं। हाल ही में मौसम का मौसम। इसे भी लेबल किया गया था। लेकिन कल कल इस सेन्टर में उसकी काम करने वाली एक गर्ल ने कहा कि हम अपने देश की सेवा में देवें हैं।

एक अन्य स्थिर स्थिति में होने की स्थिति में ऐसी स्थिति होती है जैसे कि सिलाई और सिलाई का काम सीखता है। वह भी कभी भी नहीं। 

विज्ञान में ऐसी बात है जो कि शुरू में है‌‌ कम‌ अब हाल ही में इस तरह से शुरू किया गया था जैसे कि क्षेत्र से शुरू होने वाली स्थिति में <यह स्टाइल =

।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> कलकत्ता में कार्यालय के विभाग के डॉ. इकबाल ने संपूर्ण भारत में ही 240 पूरे भारत में ही बनाए रखा है। करीब अपना चरित्र, प्‍लाइंट वर्क, हेंडी, फैशन डिजाइन, और nbsp;

कुन गांव में चला जा रहा इस सेन्टर राष्ट्र से सेना सेन्टर ऐसे हैं, जहां मुखिया और सरकारी कर्मचारी हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button