Panchaang Puraan

When is Basant Panchami 2022: This year Vasant Panchami will be celebrated in Budhaditya Yoga know the date – Astrology in Hindi

माघ मास के शुक्ल की पंचमी तिथि नियत करने की तारीख है। यह पर्यावरण का अनुकूल है। ब्रह्मचारिणी के रूप में सरस्वती स्वरूप की उपासना की भी प्रथा है। इस पंचमी तिथि का दिनांक 5 फरवरी वर्ष को है. मकर राशि सूर्य और बुध के बुध से बुधादित्य योग बन रहा है। सभी ग्रहों में वक्री रेखाएँ इस प्रकार हैं। इसलिए इस दिन के समान शुभ योग बन रहा है।

सुबह से सुबह तक शुभ मुहूर्त : पूजा का शुभ मुहूर्त पंचाल सुबह 6 बजकर 43 बजे से सुबह 6 बजे सरस्वती 43 बजे तक। शुभ समय 5 बजे 6.43 से 12.35 बजे तक।

वाले राशि?

विद्या की अधिष्ठात्री है सरस्वती : देवी सरस्वती सत्व गुणी विद्या की आदित्यात्री। ब्रह्मवैवर्त पुराण में पंचमी तिथि से अक्षरा तिथि, विद्यारंभ को दिनांकित किया गया है। माता के बंबई में यह एक है। सुरों की अधिष्ठात्री होने के कारण यह सरस्वती सरस्वती है। वसंत ऋतु में माँ सरस्वती के साथ-साथ गणेश गणेश, लक्ष्मी, पशु की अति विशेष पूजा विशेष विशेष प्रकार की होती है। माँ सरस्वती को अर्पण के बाद एक बार अबीर और गुलाल पूजा करते हैं।

.

Related Articles

Back to top button