Panchaang Puraan

vat savitri vrat 2021 puja vidhi aarti lyrics remedies upay

10 नवंबर कलवट सावित्री का व्रत है। हिंदू धर्म में इस व्रत का अधिक महत्व है. सुहागिन महिला इस दिन अपने… इस दिन ये आरती भी पढ़ें…

शनि जयंती 2021: शनि की दोषसाती और ढय्या से परीक्षार्थी चुने गए ये छोटा सा उपाय, दूर दोष दोष होगा

  • वट सावित्री व्रत आरती-

अश्वपति पुसता झाला।। नारद सागंताती ठंडा।।

अल्पायुषी सत्यवंत।। सावित्री ने कां प्रणीला।।
आणखी वर वरी बाए।। मर्दानी जो केला।।
आरती वदराजा..१..

दयावंत यमदूजा। सत्यवंत ही सावित्री।
भावे करिन मी पूजा। आरती वदराजा ..धृ..।
ज्येष्ठमास त्रयोदशी। करिती वडाशी ।।
त्रिरत व्रत करूनिया। आरती वदराजा।.२..

स्वर्गलोक जाऊनिया। अग्निखांब कचलीला।।
धर्मराजा औकला। घातक घालील जीवाला।
येश्र गेव्रते। पति नेई गे तुमा…
आरती वदराजा ..3..

जाऊनिया यमापाशी। मागतसे तुमा पाटी। चारी वर देवनिया।
दयावंता दयावा पति।आरती वदराजा ..4।।

पतिव्रते तेरी। ऐकुनि ज्या नारी।।
तुझे व्रत आचरती। तुमी भुवने पावती।।
आरती वदराजा ..5..

पतिव्रते तेरी स्तुति। त्रिभुवनी ज्या करती।। स्वर्गीय पुष्पवृष्टि करूनिया।
आनिलासी आपला पति।। अभय देवनिया। व्रते तारी त्यासी..आरती वद्राजा ..6..

.

Related Articles

Back to top button