Panchaang Puraan

vaishakh purnima buddha purnima date time puja vidhi tips upay totke remedies how to do worship on purnima – Vaishakh Purnima 2021 : घर में इस विधि से करें वैशाख पूर्णिमा के दिन पूजा

हिन्दू धर्म में दिनांक का दिनांक अधिक महत्व है. शुभ तिथि को पूरा होने पर। कल 26 मई को वैशाख माह की तारीख समाप्त हो गई है। थाशाख पूनम के जन्म के समय विष्णु विष्णु के 9वेक बुद्द का जन्म हुआ था। इस जन्मदिन को जीतना है। इस प्रकार व्यवस्था-व्यवस्था से सभी मनोभावों को पूरा किया जाता है। दिन में भी अधिक महत्ता है। इस बार कोरोना चेच घर से बाहर सुरक्षित हैं, इसलिए घर में ही वैशाख पूर्णिमा के लिए. इस घर में कैसे करें पूजा- क्रच…

  • वजन उठा सकते हैं। इस पवित्र स्नान में स्नान करने के लिए यह बहुत जरूरी है, क्योंकि इस बार बार धोने से आपको पानी में स्नान करने की आवश्यकता होती है। नाहाते समय सभी पावन का ध्यान ध्यान दें लें।
  • बाद के घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • अगर️ अगर️️️️️️️️
  • सभी देवी- गंगा जल से प्रार्थना करें।
  • कृष्ण भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना का विशेष महत्व है।
  • इस विष्णु भगवान के साथ माता लक्ष्मी की पूजा- क्रंच भी।
  • विष्णु को भोग-विलास। विष्णु के भोग में शामिल हों। व्यवसाय के वातावरण के अनुसार व्यवसाय करना स्वीकार करते हैं। इस बात का भी ध्यान रखें कि सात सात्विक सम्भोग का भोग भोग्य हों।
  • विष्णु और माता लक्ष्मी की आरती करें।
  • इस पावन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी का अधिक से अधिक ध्यान दें।
  • वैशाख पूर्णिमा के दोष की पूजा-अध्यात्म में विशेष रूप से…
  • पौर्णम परिणय की पूजा का भी विशेष महत्व है।
  • चंद्रोदय के बाद की पूजा करें।
  • मासिक धर्म से मुक्त होने से पहले।
  • इस दिन लोगों की सहायता करें।
  • घर ठीक से ठीक से काम कर रहे हैं।

वैशाख पूर्णिमा के दिन-

  • भारत – 26 मई चंद्रमा 7 बजकर 14 पर
  • मंगलास्त – 27 मई चंद्र को 5 बजकर 57 पर

.

Related Articles

Back to top button