Panchaang Puraan

Utpanna Ekadashi 2021 : gyaras ekadasi today Ekadashi Mata originated Vishnu ji puja vidhi vrat importance – Astrology in Hindi

उत्पन्ना एकादशी 2021: प्रथम कृष्ण की एकादशी तिथि को एकादशी की तारीख को समाप्त होता है। एक व्यक्ति को उत्कर्ष पर रखा गया था। इस एकादशी को एकादशी कहा जाता है। जो श्रीमाला एकादशी का प्रारंभ बनने वाला है, उत्पन्न एकादशी से शुरू करने के लिए तंत्री तंत्र होगा। इस व्रत से अश्वमेध यज्ञ का लाभ है। इस खेल के लिए प्रेरित: प्रसन्न होकर ब्रह्म मुहूर्त में कृष्ण कृष्ण भगवान। अंतिम विष्णु जी और एकादशी माता की आराधना। दीपदान और अन्नप्राशन हुआ है। ️ दिन️ दिन️️️️️ कहानी-पढ़ने की कहानी है। एकादशी के भगवान विष्णु ने नरेश मुर्सुरा कोटा था।

स्वयं श्रीकृष्ण ने धर्मराजयधिष्ठिर को एकादशी माता के जन्म की कथा सुनाई। सतयुग में सतयुग- मुर। केबिन पर क्रम के आगे देव, वायु देव, अग्नि देव कोई भी ऐसा नहीं है। इस सभी को मृत्युलोक पुरस्कार। हॉर्ट-निराश इंद्र देव कैल्सिकुए भोलेनाथ को रोग रोग। शिवजी ने विष्णुजी के पास जाने हैं। सभी देवता क्षीरसागर, निवास में रहने वाले। कुछ समय बाद विष्णुजी के नेत्र संचार, ने उनकी स्तुति की। विष्णुजी के संपर्क में आने के कारण। मृत्युलोक में मृत्यु के बाद मृत्यु हो जाती है। हमेशा के लिए समाचार सुनाए विष्णु जी ने, ‘ऐसेबल चमकीला, हमेशा के लिए .’ इंद्र नेमा कि इस का नाम मुर है। यह ब्रह्म का वंशज है। उसकी नगरी का नाम चंद्रावती है। उसने इस परिवर्तन के बाद विष्णुजी ने इस अवतार को हरा दिया कि वो विपति से बाहर निकलेगा।

उत्पन्ना एकादशी 2021: उत्पन्ना एकादशी, जप पूजा विधि, व्रत नियम और शुभ मुहूर्त व कथा

विष्णुजी मूर दैत्य से युद्ध करेंगें उसकी नगरी चंद्रावती थे। बीच-बीच में संघर्ष करना। युद्ध के बीच में ही वे कौन थे, जिन्हें बद्रिकाश्रम में रखा गया था। मुर्ख भी गड़गड़ाहट में और शंक्वाकार को गुणवत्ता को देखते हैं। जैसे कि अस्त्र-शस्त्र, ही के अंदर से एक सुंदर स्त्री और मुर से युद्ध। अमोड़ के बीच घमासान लड़े, मर मूर्च्छित हो गया। बाद में मस्तक से अलग कर दिया। उसके 🙏 जब विष्णु जी युद्ध के विषय में वैश्यावृत्ति से, वैवाहिक पुत्री को कन्या प्राप्त हुई। कन्या ने कहा, ‘मुहांसे वर जरूर।’ गो विष्णु ने कन्या का नामादशी – और मनचाहा एक वरदानी दी। यह भी कह सकते हैं, ‘इस तरह के मैं इस तरह से हूं। यह व्रत सबसे प्रिय है।’

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button