Business News

US Pips Mauritius as Second Largest Source of FDI in India in 2020-21: DPIIT Data

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, अमेरिका ने 2020-21 के दौरान भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के दूसरे सबसे बड़े स्रोत के रूप में मॉरीशस को 13.82 बिलियन अमरीकी डालर की आमद के साथ बदल दिया। सिंगापुर लगातार तीसरे वित्त वर्ष में देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) का शीर्ष स्रोत 17.41 अरब अमेरिकी डॉलर रहा।

उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) के आंकड़ों के अनुसार, पिछले वित्तीय वर्ष के दौरान, भारत ने मॉरीशस से 5.64 बिलियन अमरीकी डालर का FDI आकर्षित किया। द्वीप देश के बाद यूएई (4.2 बिलियन अमरीकी डालर), केमैन द्वीप (2.79 बिलियन अमरीकी डालर), नीदरलैंड (2.78 बिलियन अमरीकी डालर), यूके (2.04 बिलियन अमरीकी डालर), जापान (1.95 बिलियन अमरीकी डालर), जर्मनी (667 मिलियन अमरीकी डालर), और साइप्रस (386 मिलियन अमरीकी डालर)।

नीतिगत सुधारों, निवेश की सुविधा और व्यापार करने में आसानी के लिए सरकार द्वारा किए गए उपायों के बीच 2020-21 के दौरान देश में कुल प्रत्यक्ष विदेशी निवेश 19 प्रतिशत बढ़कर 59.64 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गया। इक्विटी, फिर से निवेश की गई आय और पूंजी सहित कुल एफडीआई, 2019-20 में 74.39 बिलियन अमरीकी डालर के मुकाबले 10 प्रतिशत बढ़कर 81.72 बिलियन अमरीकी डालर हो गया। 2020-21 में, कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर क्षेत्र ने सबसे अधिक 26.14 बिलियन अमरीकी डालर की आमद को आकर्षित किया। इसके बाद निर्माण – अवसंरचना गतिविधियां (7.87 बिलियन अमरीकी डॉलर) और सेवा क्षेत्र (5 बिलियन अमरीकी डॉलर) का स्थान रहा।

सभी पढ़ें ताजा खबर, आज की ताजा खबर तथा कोरोनावाइरस खबरें यहां

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button