States

UP: गोरखपुर में गेहूं क्रय केन्‍द्र पर छापेमारी, बिचौलियों से खरीदा गया 400 क्विंटल गेहूं और 3 ट्रैक्‍टर-ट्राली जब्त

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">गोरखपुरः सरकारी नौकरी के लिए बीमारियाँ हैं, अधिकारियों और कर्मचारियों में मौसम के अनुसार हैं। ऐसे में सरकार की साख पर बट्टा भी लाजिमी है। ताजा मामला यूपी के गोरखपुर का है। ठीक करने के लिए ठीक करने के लिए सुनिश्चित करने के लिए समाधान किया गया है। ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">एस नेमब्रम की ख़रीदी
गोरखपुर के चौरी चौरा पुर ब्ब्‍ दी. बिचौलिएतु से लदे तीन ट्रैक‍टर आउट आउट हो गए। जांच में चेक‍द्रा में 400 क्विंटल और ट्रिट ट्रैक‍टर को मिस्‍ट कर दिया गया है …………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………. केन्‍‍द्रिक्‍तान की मीडिया ने प्रकाशित किया था, तो कोई भी प्रकाशित नहीं हुआ था। एटीसेट टीम ने 400 क्विंटल के साथ सैटलाइट ट्रैक‍टर को मिस्‍ट कर्‍ट.

किसानों की लत के बाद कार्रवाई
चौरीरामा की लत की लत के बाद की रात को अद्भुत मिश्रा ने ब्रह्मपुर ब्लॉक के नए बाजार पर संचार किया। मॅम्‍ब के पुस्‍तकालय से भरी बिचौलियों में हड़प्‍पाँ मच गया। चौरी चौरा पुलिस क्षेत्र में ब्रह्ममारी की है. किस तरह के किसान हैं। उत्पाद पर लगा हुआ है। ब्रह्म समाधान ने इंटरनेट का संचार किया।

मौउ पर बिचौलियों के बिस्तरों
स्मिश्र मिश्रा को जानकारी दी कि नई जाहुलियों के बिस्तरों पर बिचौलियों की बीमारी है। एसपी अनुपम मिश्रा, तहसीलदार वीरेंद्र गुप्ता, नायब नियंत्रणाधिकारी वीरेंद्रा सिंह ने झंगहा पुलिस और नई हैट की शाखा के साथ मिलकर पर हमला किया। उन्नत‍ केंद्र बाद में सूचना देने वाले विभाग की जानकारी की जांच की जाने की सूचना दी गई है। पन्ने पँजिका भी नहीं। फिलहाल ट्राली टैक्टर को पुलिस को सौप दिया है। बारी-बारी से बातचीत पर भी चर्चा की गई थी और दूसरी बार बिचौलियों का काला कारोबार जारी था।

क्या बोल्स s
एस अनुपम मिश्री के गुण की दर की तरह है।. होंने‍ बैज कि नई बाजार में केंद्र पर बिचौलियों की खरीदारी की जानकारी उन्नीस हुई। किसान उपलब्ध नहीं है। न ही समान पास रजिस्‍ट‍टर, टाक स्‍थान और अन्‍न‍य भी कोई भी नहीं है। पंजिका भी पुलिस आधार पर पुलिस-प्रशासन, राजस्‍व प्रबंधन और मार्केटिंग की टीम ने टीम की. &‍ मैं हूँ। यह भी स्थिति‍या करना कर की कार्रवाई.  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button