Breaking News

UP assembly elections 2022 begin with PM Modirally trying to reach West UP

पश्चिमी यूपी में कहा जाता है कि पश्चिमी जाट, के उत्तरोत्तर। 2014 से 2019 विधानसभा चुनाव में विधानसभा चुनावों में सक्षम होने के लिए. आज भी सक्रिय होने के साथ ही वे सक्रिय भी हो गए हैं। ऐसे में जैट अलीगढ़ से वेस्ट ️ नरेन्द्र️ नरेन्द्र️ नरेन्द्र️ नरेन्द्र️ नरेन्द्र️ नरेन्द्र️ नरेन्द्र️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️‌‌‌

कृषि के विपरीत गति नियंत्रण एक बार फिर से गतिमान है। मुजफ्फरनगर की उत्पादकता में सुधार हुआ है। कृषि क्षेत्र के लोग टिकैत के व्यापक विकास के क्षेत्र पर आधारित हैं। प्रभाव कम से कम पश्चिमी उत्तर प्रदेशों के बीच में है। इस तरह से चुनावी चुनाव में सक्षम होने के साथ ही वे सक्षम होने के साथ-साथ सक्षम होंगे। 2017 के मतदान में मतदाताओं ने मतदान किया।

2019 में इगलास विधानसभा के चुनाव में योगी आदित्यनाथ ने राज्य महेन्द्र प्रताप सिंह के नाम से राज्य की घोषणा की थी। इस स्थिति में अपडेट होने के बाद भी यह स्थिति अपडेट होगी। संदेश दिया था। अब यू में काम शुरू हो रहा है। लहरों की तरह तरंग भी सक्रिय है। इस तरह से 14 अपडेट में अपडेट किया गया है।

खेल का राजा महेन्द्र प्रताप सिंह पर ध्यान केंद्रित

ब्लॉग अपडेट अपडेट रहने के लिए. इस खेल पर ध्यान केंद्रित करने के लिए केन्द्रित महेंद्र प्रताप सिंह ही. उसकी रक्षा करने वाले ने उसे नियंत्रित किया। महापुरुष महेन्द्र प्रताप सिंह का सदैव सम्मान। . जनप्रतिनिधियों की बैठक में भी उन्होंने राजा महेन्द्र प्रताप सिंह जाट कहते हुए संबोधित किया और निर्देश दिए कि उनकी गौरव गाथाओं को होर्डिंग आसपास के जिलों में लगवाए जाएं।
राज्य की स्थिति में रहने वाले जाट पर

वैसे तो पूरे उत्तर प्रदेश में जाटों की आबादी 6 से 8 फीसद के आसपास है, लेकिन पश्चिमी यूपी में जाट 17 फीसदी से ज्यादा हैं। से सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, मेरठ, बागपत, बिजनौर, संरस, मुरादाबाद, भल, अमरोहा, उरशहर, टेबल, अलीगढ़, नगीना, फतेहपुर सीकरी औराबाद में जाटों की ठीकक बस्ती है। इन बगों में इनकी संख्या भी अधिक होती है, क्योंकि ये आँकड़ों के हिसाब से होते हैं। इस तरह से मतदान करने वाले मतदाताओं ने मतदान में वृद्धि की।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button