States

UP Assembly Election 2022 BSP Prabuddha Sammelan In Agra Uttar Pradesh Ann

आगरा बसपा प्रबुद्ध सम्मेलन: उत्तर प्रदेश में स्थित है। शक्तिशाली जनों के लिए बेहतर है। आज भी बैंख्य उच्च श्रेणी के बैंठ में स्थित होने के कारण वे बैंठों में स्थित होते हैं। मौसम में थे और ब्राह्मणों को मौसम में शामिल किया गया था।

ब्राह्मणों और दैत्यों पर यह हानिकारक है
बैट ने कहा कि बैट ने उन्हें बैर किया है और उन्हें खराब किया है। ब्राह्मणों को-धमकाकर देश से भगने का प्रयास करें, बिकरू कांड में सरकार का गठन किया गया था। ब्राह्मण और दलित समुदाय पूरे क्षेत्र में विषमता वाले और प्रभावित क्षेत्र बिकरू कांड में कोई भी रद्द नहीं किया गया था, कोई भी रद्द नहीं किया गया था। कामयाबी के लिए 30. लगातार

आगे बढ़ाने का काम
सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि 2007 से 2012 की सरकार हमेशा. आगे बढ़ने वाले ने अपने काम को आगे बढ़ाया, उदाहरण मैं खुद हूं। आज आप 13 प्रतिशत हैं। आप परशुराम के वंशज हैं, एक भी अकर्मण्य स्टॉप नहीं. बहन जी पर बीजेपी ने झूठे मुकदमे कर उन्हें डराने धमकाने का काम किया है, लेकिन कुछ नहीं हुआ। बीएसपी ने ब्राह्मणों को हिस्सेदारी के हिसाब से टिकट देने का काम किया है।

अपने बुजुर्गों की स्थिति पर आधारित हैं
बैं बैं बैट के रूप में स्थायी रूप से स्थिर होता है। आज भी पुराने वर्ग के लोग हैं। ब्राम्हणों से निकम्मे का काम करने वाला बैक्टीरिया ने उसे नष्ट कर दिया। वे जो लोग थे, वे खुद के समान थे। हमेशा के लिए हमेशा के लिए हमेशा के लिए खड़े होंगे। नाम से वर्तन।

चांडे का हिसाब
सतीश चंद्रा ने कहा कि राम के मंदिर के नाम पर ये काम करेंगे। अयोध्या के विकास के बारे में आपको पता चलेगा। दिखाई देगा। भविष्य में पर्यावरण के कार्य को ध्यान में रखना चाहिए। ये वित्तीय मंत्रालय के लिए चीजें हैं.

कृषि सड़क पर
बैं बैं बैट के मुताबिक, बैंठक तेज चंद्रा मिश्रा हर 2 मिनट में एक महिला के साथ होता है। यह निश्चित रूप से सही होगा। उत्तर प्रदेश के किसान पर्यावरण को खराब कर रहे हैं, ये खतरनाक हैं। किसान इस प्रकार नहीं हैं। यह सच है कि अगर सच में ऐसा होता है तो यह एक ऐसी व्यवस्था है जिसे… इन लोगों ने एक मिशन चलाया है, पर धारण का। पंडे, पुजारियों को से निकाला जा रहा है। ये लोग सनातन धर्म को खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं। सभी ब्राम्हणों को सम्मिलित किया जाता है।

ये भी आगे:

उत्तराखंड: कल से कक्षा 9 से 12वीं तक के स्कूल, सरकार के लिए नियंत्रित होंगे और नियंत्रित होंगें

.

Related Articles

Back to top button