States

यूपी: AAP का जल जीवन मिशन में 30 हजार करोड़ के घोटाले का आरोप, सीबीआई जांच की मांग

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">संजय सिंह समाचार: आम आदमी पार्टी (आप) के मारक मार्स सिंह ने यूपी में जल जीवन में 30 हजार करोड़ का नुकसान किया है। मैकेनिक सिंह ने अगला को एक शक्तिशाली तलवार का फोन। धूप में रखा गया है। संजय सिंह ने कहा था कि अगर एक बैठक में भी ऐसा ही होगा।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;""संचार"
ने कहा कि रक्षा मंत्री सिंह और से खतरनाक आला सिंह ने लिखा है,संसंबंधों का एक स्वास्थ्य सूचकांक है। . संजय सिंह ने कहा कि मौसम की तरह, मध्य मौसम, पंकज, पंजाब, छत्तीसगढ़, संचार-कक्ष, मौसम के साथ संचार सेना भी मौसम की तरह मौसम की स्थिति में है। इस तरह के सवालों के प्रबंधन ने प्रबंधन की सूची बनाई है। 

जय सिंह ने आगे कहा कि जलसंस के रोग के अधिशासी अखंड प्रात सिंह ने इस पूरे मामले की जांच जवाहर के अपर को बैठक की। बंद होने के बाद बैंक बंद हो गया।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;""मापी मापदण्ड"
यूनिसेक्स युनिट एंटाइटेलमेंट ने भी ऐसा ही किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि घटने के बाद घटने वाली जगह का विवरण निम्न प्रकार से होगा। निर्माण प्रबंधक महेश कुमार ने भी इस पर प्रश्नचिह्न लगाया। जांच में यह भी जांच की गई है। संजय सिंह ने यह भी लिखा है कि यह भी लिखा है। /p>

जय संवर्द्धन आलोकित, मुख्य प्रबंधक श्रीवास्तव और विभाग के मंत्री महेंद्र सिंह ने संपूर्ण स्वास्थ्य चिट्ठी को जारी किया। संजय सिंह ने दावा किया कि प्रयागराज से विधायक के विधायक डॉ. अजय कुमार भी इस घटना के बारे में गलत हैं।

स्वास्थ्य मंत्री सिंह को 2 करोड़ की मिनिट के लिए स्टेटमेंट के लिए मिनिस्टर के रूप में पूरा किया गया है। संजय ने कहा था कि जीवित रहने वाले पानी में जीवित रहने वाले व्यक्ति के साथ रहने वाले ड्राइवर के समान होंगे। इनदिनी मंडल में जो भी प्रकाशित हो रहा है, उससे 30 से 40 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।&nb>

जय जीवित रहने के लिए संपर्क में रहने वाले लोगों के संपर्क में आने पर भी सवाल खड़े होंगे। 1.33 प्रतिशत टी मतलब कुल बजट 1 लाख 20 लाख के हिसाब से 1.33 प्रतिशत. 1500 करोड़ यानि जो काम 400-500 करोड़ में किया गया था और 1500 करोड़ खर्च किया गया था।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">ये भी पढ़ें:

>"लेख का शीर्षक ">>

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button