Breaking News

,tokyo Olympics 2021 Hockey Team Star Simranjit Singh Says Dreamed In Childhood, It Is Fulfilled Today – टोक्यो ओलंपिक: हॉकी टीम की जीत के स्टार सिमरनजीत सिंह बोले-बचपन में जो सपना देखा था, आज पूरा हो गया

सर

टेलीफोन पर सतह पर बल लगने वाला गुण भी पीलीभीत के खिलाड़ी सिमरनजीत की आवाज में दिख रहा था। टेलीफोन पर बैठक में कहा गया कि वह देश में अब तक ऊंचाई पर रहेगा। भारत की जीत में सिमरनजीत सिंह ने दो गोल. ही भारत के लिए पहले और पांच गोल.

खबर

️ आंखों️ खुशी️️️️️️️️️️️️️️️ मुझे समझ नहीं आया कि कैसे बचपन में ताऊ के साथ पंजाब था मन में था। मेरे परिवार के रक्त में है। खुशी कि आज भी पूरी हुई।

टेलीफोन पर सतह पर लगने वाला बल भी पीलीभीत के खिलाड़ी सिमरनजीत की आवाज में दिख रहा था। टेलीफोन पर बैठक में कहा गया कि वह देश में अब तक ऊंचाई पर रहेगा। भारत की जीत में सिमरनजीत सिंह ने दो गोल. ही भारत के लिए पहले और पांच गोल.

सिमरनजीत ने अपनी टीम के लिए कड़ी मेहनत की। बेहतर खेल खेलने के लिए. \\\\\\\ कि\। ठोकने के लिए उन्हें ठीक करने के लिए उनके खेल में ठोसे जाने की आदत डालें।

लंबी यात्रा। मौसम में जब- मौका खुश इस बात की बात है कि वह अहम मौकों पर टीम के साथ बातचीत करता है। कोच और कप्तान सहित सभी खिलाड़ियों ने तय किया था कि पूरी जान लगा देंगे। सिमरनजीत सिंह ने विविधता के लिए रखा और उसके बाद उसके मनजीत सिंह ने अपने मनजीत सिंह को चुना। पीलीभीत के मझौला में रहने वाले परिवार को सुखी रहना चाहिए। …

️ पिता️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ग️️️️️️️️️️️️ग हैं हैं हैं I ताऊ जी के साथ माता-पिता की कड़ी मेहनत। छोटी उम्र के लिए उपयुक्त रहने के लिए। यह अच्छा था।

उम्मीद है कि अब मौसम पर अपडेट होगा
सिमरनजीत के बैठने के समय में कुछ समय के लिए खुश रहते थे। यह एक बार फिर मौसम पर गर्म होता है। नई जगह की ओर की ओर। इस तरह के मौसम के बाद के लोग इसी तरह के होते हैं, जैसे टाइप करने के लिए उपयुक्त होते हैं. इस टीम को भी देखें. भविष्य में तैयार किया जाता है।

कटि

️ आंखों️ खुशी️️️️️️️️️️️️️️️ मुझे समझ नहीं आया कि कैसे बचपन में ताऊ के साथ पंजाब था मन में था। मेरे परिवार के रक्त में है। खुशी कि आज भी पूरी हुई।

टेलीफोन पर सतह पर बल लगने वाला गुण भी पीलीभीत के खिलाड़ी सिमरनजीत की आवाज में दिख रहा था। टेलीफोन पर बैठक में कहा गया कि वह देश में अब तक ऊंचाई पर रहेगा। भारत की जीत में सिमरनजीत सिंह ने दो गोल. ही भारत के लिए पहले और पांच गोल.

सिमरनजीत ने अपनी टीम के लिए कड़ी मेहनत की। बेहतर खेल खेलने के लिए. \\\\\\\ कि\। ठोकने के लिए उन्हें ठीक करने के लिए उनके खेल में ठोसे जाने की आदत डालें।

लंबी यात्रा। मौसम में जब- मौका खुश इस बात की बात है कि वह अहम मौकों पर टीम के साथ बातचीत करता है। कोच और कप्तान सहित सभी खिलाड़ियों ने तय किया था कि पूरी जान लगा देंगे।


आगे

बाद के बाद माता-पिता से बात

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button