Panchaang Puraan

Today Horoscope July 2: The debt situation of Aries may come Leo people should be saved know how your day will be – Astrology in Hindi

मौसम की स्थिति-बुध और राहु वृषभ राशि में हैं। सूर्य मिलन राशियों में। शुक्र और मंगल ग्रह राशियों में हैं। केतु वृश्चिक राशि में हैं। शनि मकर राशि में हैं। गुरु कुंभ राशि में हैं। माह मीन राशि में हैं। शनि और गुरु वक्री हैं। मंगल ग्रह के हैं।

राशिफल-

मीन-मन फू टा। कर्ज की स्थिति आ सकती है। खर्च की अधिकता। नेत्र कीटाणुरहित, स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ व्‍यापार्क नजरिए से भी मध्‍यम. बजरंग बाण का पाठ.

वृषभ-अर्थव्यवस्था के मामले में, शुभ समाचार की क्या होगी। रुका धनी वापस। आई के उपयोगिता बनेंगे। स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ सुधार प्रेम की स्थिति बेहतर है। आगे बढ़ने से पहले। गणेश जी की वंदना.

मिनट-शासन-सत्‍ता का समर्थन करते हैं। उच्छेप प्रतिपालन। स्‍‍‍‍थ‍ि में सुधार, प्रेम की स्थिति उम्‍मीदें हैं। व्‍यापार रुक-रुकने के लिए. पीली वस्तु का दान।

कर्क-स्थिति में सुधार की ओर है। सुधारों में सुधार होगा। प्रेम की स्थापत्य उम्मीद है। ааपार्किक नजरिए से पा किसी स्त्री की ओर से ऊगली न उठे। बजरंग बाण का पाठ। वाइटवस्तु का दान।

सिंह-सूचनाएँ हैं। असफल बचकर पार। स्‍‍‍‍थ्‍य मध्‍यम, प्रेम और व्‍यापार भी सही। पीली वस्तू।

कन्या-शारीरिक स्थिति पहले से बेहतर है। व्‍यापारिक और प्रेम की स्थिति वरदान की तरह है। उम्मीद की स्थिति स्थिति है। आप खुद से बात करते हैं। प्रेम सम्‍बध‍ित, पति-पत्‍नी के सम्‍पादित किए गए सुधार की स्थिति में सुधार किया जाता है। शनिदेव की अराधना..

तुम-दुश्मन की भी रक्षा करें। ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍! प्रेम की स्थिति पहले से बेहतर है। व्‍यापार रुक-रुकने के लिए ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍. पीली वस्तु का दान।

वृश्चिक-प्रेम में बहकर कोई भी फोन न लें। उम्मीद के लिए समय है। स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍]प्रेम और व्‍यापार मध्‍यम्‍व. विषु की आराधना.

धनु-स्थिति सुधारना ओर है। कुछ शुभ कृत्‍य होने के बावजूद, यह ठीक है। स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍या, प्रेम मध्‍यम, व्‍या उत्‍तरोत्‍तरोत्‍तर की ओर है। बजरंग बाण का पाठ.

मकर-व्‍यवसायिक लाभ, विवाह और मित्र के साथ, प्रेम में सुधार होगा, और वैयापार की स्थिति उम्मीद होगी। माँ काली की अराधना..

कुंभ-अर्थव्यवस्था फलीभूत भूत। किसी को भी पसंद नहीं होगा। स्‍टोर करें। एक-दो बाद में ही कोई लिंग। स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ मां काली का स्‍मरण करें।

मीन-झंझट की लहरें रोज़ी-रोज़गार में बदलने, स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍क्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ व्‍यापार्क नजरिए से चलने वाला व्‍यय. हनुमान जी का दर्शन।

प्रस्तुति-
अजय कुमार सिंह
गोरखपुर।

.

Related Articles

Back to top button