Panchaang Puraan

Today Horoscope July 13: Cancer people will remain troubled Aquarius people should worship Sun God know how your day will be – Astrology in Hindi

ज्योतिषाचार्य पंडित नरेन्द्र उपाध्याय
मौसम की स्थिति-
राहु वृषभ राशि में हैं। मिथुन राशि में सूर्य और बुध। कर्क राशियों में मंगल और शुक्र। सिंह राशि में हैं। वृश्चिक राशि केतु। मकर राशि में शनि और मकर राशि में गुरु का गोचर चल रहा है।

राशिफल-

मीन-मन को बनाया गया है। भावुकता पर नियंत्रण। ️ महत्️ सके️️️️️️ ग़लती की जाँच पर ध्यान दें। प्रेम में टी-तू, मैं-I ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍य व्‍यापार-करीब ठीक है। शनिदेव की आराधना करें। लाल वस्तू।

वृषभ-भौतिक सुख-सुविधा में वृद्धि। प्रेम का साथ होगा। व्यवसाय में तरक्की करेंगे लेकिन कलहकारी सृष्टि का भी सृजन हो रहा है। इससे बचना चाहिए आपको। संपूर्ण का कोई भी दिवस।

मिनट-आपके द्वारा चलाया गया परक्रम सफलता की ओर से लेग। व्‍यवसायिक उन्‍नति अभियान है। स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ प्रेम मध्यम जांच। व्‍यापार्क दृष्टि से आप ठीक-ठाक उत्‍पन्‍न करते हैं। लाल वास्तु का दान।

कर्क-एक भार, घघ्राट, मन को महसूस करने वाले पेंटोइंग रंग का। वाणी असंतुलन खराब हो. धनगमन. न किसी को जानकारी, इन्वेंटरी करें। प्रेम की स्थिति उहापोहहावत बनी हुई है। व्यावहारिक दृष्टिकोण से ठीक है। ठीक भी ठीक है। लाल वस्तू।

सिंह-रंग की तरह चमकते हैं। बेहतर बेहतर बेहतर होगा। प्रेम और संतान की तारीख है। व्‍यापार ठीक-ठाक. संपूर्ण का कोई वास्तु दिवस।

कन्या-मन व्‍याकुल ज्‍योतिष। सुधार में सुधार होगा। खर्च की अधिकता को सघनता। आँख विकर या स्व-स्वीकृति हो सकते हैं। कुल एक दोष स्थिति स्थिति। प्रेम में भी खटपटा। व्‍यापार ठीक-ठाक है। मध्यम से बेहतर है। सूर्यदेव को जल।

तुम-अर्थव्यवस्था में सुधार की ओर है। प्रेम की स्थिति में सुधार करें। सपने में उम्मीद की जा सकती है। सूर्यदेव को जल। मां काली की वंदना।

वृश्चिक-शासन-सत्‍ता का समर्थन। उच्छेप प्रतिपालन। व्‍यवसायिक लाभ। स्‍‍‍‍‍‍‍‍या, प्रेम विचार उम्‍मीद व्‍यवहार। लाल वस्तू।

धनु-उपयुक्त हैं। रुका हुआ काम ठीक से काम कर रहा था। स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ प्रेम की स्थिति भी मध्‍यम और व्‍यापारीक से ठीक से ठीक है। बजरंग बाण का पाठ.

मकर-काम करना संभव है। किसी को नुकसान हो सकता है। वाहन सुरक्षा जांच। मध्यम समय कहा जाता है, स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍), प्रेम, व्‍यापार-करीब. माँ काली की अराधना..

कुंभ-दैत्य का सानिध्व.. रोज़ी-रोज़गार में तराकी। आनंदमय जीवन रक्षा। बेहतर बेहतर है। व्‍यापार भी बढ़ाया गया है। प्रेम भी बेहतरीन है। सूर्यदेव की आराधना.

मीन-शत्रुओं पर दुश्मन। रुका हुआ काम व्यवस्थित। सम्मेलन का आशीर्वाद। स्‍‍‍‍‍थ्‍य मध्‍यम, प्रेम मध्‍यम, व्‍यापार ठीक. भोलेनाथ की अराधना.

प्रस्तुति-
अजय कुमार सिंह
गोरखपुर।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button