Panchaang Puraan

Today Horoscope 6 June: Leo people will start stop work and Virgo people should not take any risk know aaj ka rashifal

मौसम की स्थिति-मीन मीन राशि में हैं। सूर्य, बुध, राहु वृषभ राशि में हैं। बुध वक्री तेज रफ्तार से चलने वाले हैं। शुक्र ग्रह, मंगल कर्क, केतु वृश्चिक राशि में, मकर राशि में शनि वक्री हैं और कुंभ राशि में गुरु का गोचर चल रहा है।

राशिफल-
मीन-सुकुमारा बढ़ रही है। गणना के हिसाब से गणना प्रेम मध्यम जांच। प्रबंधन पर ध्यान दें। स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ व्‍यापार मध्‍यम गति से आगे बढ़ रहा है। लाल वस्तू।

वृषभ-मन विश्व, गणक को. मन जानकार से भी. प्रेम और संतान मध्यम गति से आगे बढ़ेंगी। स्‍‍‍‍‍थ्‍य से बेहतर, व्‍यापार मध्‍यम।

मिनट-धन की धनधता। यात्रा का योग। यात्रा में लाभ भी योग हैं। स्‍‍थ्‍‍‍‍‍‍यमय, प्रेम और ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ व्‍यवसाय पहले से बेहतर। माँ काली की अराधना..

कर्क-विष विज्ञान में भी भविष्यवाणी की जाती है। प्रेम में प्रेम। उम्मीद से उम्मीद की जाती है। ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍]बजरंग बली की आराधना.

सिंह-प्रभातफेरी। रुका हुआ काम ठीक से काम कर रहा था। स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍]प्रेम से बेहतर है। व्‍यापार ठीक-ठाक गति से आगे. विषु की आराधना.

कन्या-जोखिम समय है। कोई रिस्क न लें। प्रेम मध्‍यम है। व्‍यापार-करीब ठीक है। लाल वास्तु का दान।

तुम-आनंदमय जीवन रक्षा। किसी भी समय रंगी बन बैठक से बेहतर। प्रिय-प्रेमिका से खराब हो जाएगी। कुँवारों की शरण में जा सकता है। बेहतर बेहतर बेहतर होगा। प्रेम मध्यम से बेहतर की ओर होगा। व्‍यापार रुक-रुक-रुक कर. शनिदेव की अराधना..

वृश्चिक-शत्रुओं पर दुश्मन। रुका हुआ काम ठीक से काम कर रहा था। मीडिया में संचार, ध्‍यान. स्‍‍‍थ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ माँ काली की अराधना..

धनु-महत्व पर ध्यान दें। झंझट का दोष। प्रेम मध्यम सुधारें। व्‍यापार-करीब ठीक है। बजरंग बाण का पाठ।

मकर-होमकलह के चिह्न। भौतिक सुख-सम्पत्ति में वृद्धि हो सकती है। स्‍‍‍‍‍‍‍थ्‍य मध्‍यम, प्रेम और व्‍यापार में सुधार करें। मां काली की आराधना करें।

कुंभ-परक्रम रंग। व्‍यवसायिक लाभ, प्रेम मध्‍यम सुधार होगा। गणेश जी की आराधना।

मीन-बैठक-पैसे। कुटुंबीजनों में वृद्धि होगी। नया सदस्य जुड़ता है। ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍मां, प्रेम बेहतर, व्‍यापारिक दृष्टि से वाक्‍वा वॉक कर रहे हैं। माँ काली की अराधना..

प्रस्तुति-
अजय कुमार सिंह
गोरखपुर।

.

Related Articles

Back to top button