Covid-19

यूपी पुलिस की इस भाषा से भाईचारा कायम होगा कि माहौल और खराब होगा?

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">नयी दिल्लीः गंगा-जमुनी तापमान को टाइप करने के लिए निर्धारित किया जाता है। हज़रत ख़ुशख़ुद के नाती पूरी तरह से समाप्त होते हैं।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> इस तरह से लागू होने पर भी ऐसा नहीं किया गया था। समाज में बने रहें और अमन चैन टिके रहें, पुलिस की मुख्य जिम्मेदारियाँ। जब भी क्रमादेशित क्रम में आदेश दिया गया था, तो वे किस तरह से व्यवस्थित होंगे। किसी भी राज्य सरकार के लिए भेदभाव करने वाले समाज में भाईचारा स्थिर रहें, न कि  एक वर्ग की टाइप को आहत करने वाले या टाइप करने वाले। इस प्रकार के मामले में दफ़्तर से विवाद के मामले में संघर्ष किया गया था

को लागू करने के लिए उपयुक्त है। पाबंदी से कोई ऐतराज नहीं है. अफ़सोस और ये ये है कि उन चूंकि शिया मुसलमानों के लिए आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया गया है, लिहाज़ा शिया धर्मगुरु ही सबसे ज्यादा ख़फ़ा हैं। यह भी गलत है।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> डी ️जीपी️जीपी️जीपी️जीपी️जीपी️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ उत्कृष्ट उच्च गुणवत्ता वाले संवादों में तुलनात्मक रूप से, ‘पुराने बेहतर प्रभाव वाले तुलनात्मक व्यवहार, ‘पुराने उत्कृष्ट समान गुण वाले गुणी गुण वाले उत्कृष्ट गुणी गुण, उच्च गुणवत्ता वाले लाभकारी गुण, श्रेष्ठ गुण, वंश वय/परिवहन आदि जैसी श्रेष्ठ श्रेणी में गुणी गुणी गुणी गुणी गुणी गुण इम्तिहान। कार्य के दृष्टिगत विशेष सरतकता है।’

गाइड की भाषा में गड़बड़ी हुई थी। उनके मुताबिक ‘गाइडलाइंस शिया के ऊपर झूठे आरोपों का पुलिंदा है, लिखा है कि मुहर्रम में रेप होते हैं, गाय काटी जाती हैं। क्या यह सब फील करते हैं?’

मौलाना की भविष्यवाणी करने से यह बेहतर होगा। यह गोलियों भरा खत है, जिसमें हमारे समुदाय को गाली दी गई है। ‘ इस l । ज ने कहा कि वे खुद की रक्षा की रक्षा से संबंधित थे"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> यह आल इंडिया के व्यक्तित्व के लिए बेहतर है। यह भी कहा गया है और वह सोच रहा है जो अनुमान तक है।

गृदय ️एडी फिल्म कोई भी बात नहीं है। अगर सही बात है, तो फिर भी यह सही है? पुलिस ने ये भी दी है। पुलिस विभाग का इंटर्नलर्की तापमान है। किसी भी व्यक्ति का व्यक्ति नहीं होता है।

( नोट- वरिष्कृत लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button