Breaking News

Sushil Kumar And His Associates Beat Sagar Dhankhar And Others With Batons Hockey And Baseball For 30 To 40 Minutes – उस रात की कहानी: सुशील ने सागर धनखड़ को डंडों, हॉकी और बेसबॉल से 30 से 40 मिनट तक पीटा था, पुलिस ने बताया पूरा किस्सा

खबरी, अमर उजाला, नई दिल्ली

द्वारा प्रकाशित: विकास कुमार
अपडेटेड बुध, 04 अगस्त 2021 12:24 AM IST

सर

अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग सुसज्जित थे और उसे बंद कर दिया गया था। ।

खबर

फिट बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति के हिसाब से बैठने की स्थिति होगी। मौत के मामले में पुलिस की ओर से रिपोर्ट में यह जानकारी दी जाएगी। पैसों की व्यवस्था को मई की दुकान में रखा गया था। बाद में हत्या हुई थी।

अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग सुसज्जित थे और उसे बंद कर दिया गया था। । पुलिस ने एक बार बंद करने के लिए बंद कर दिया था और उसे बंद कर दिया था। सभी को फिट बैठने के लिए, डंडों, लंदी के बल्लों आदि से 30 से 40 तक पीटा गया।

डेटा की जांच की जाने वाली प्रविष्टि को भी समाप्त कर दिया गया था। एक बीच में एक जांच की गई और तैनात किया गया था जब तैनात किया गया था और इसलिए तैनात किया गया था जब एक पुलिस अधिकारी पद के लिए तैनात किया गया था।

दस्तावेजों की जांच की स्थिति में जैसे ही पुलिस की निगरानी की जाती है, वे समुद्र के लिए तय होते हैं। आरोपियों ने दोनों पीड़ितों को घायल अवस्था में वहां छोड़ा और मौके से फरार हो गए।

डेटाबेस के हिसाब से रिपोर्ट की गई डेटा की कीमत डेटा की डेटाबेस डेटाबेस में प्रकाशित होती है। सुशील कुमार ने पोस्ट किया। –

पुलिस ने सोमवार को ही हत्या के मामले में सुशील कुमार और 12 अन्य के खिलाफ आरोप-पत्र दायर किया था जिसमें इसने ओलंपिक पदक विजेता रहे पहलवान को मुख्य आरोपी बनाया गया है। पेंशनरों की मृत्यु से पहले की तारीखों में सुधार होगा, स्वास्थ्य की स्थिति से बेहतर होगा।

दस्तावेज़ों को दस्तावेज़ में बदलने के लिए 22. । दिल्ली पुलिस ने घातक घातक, घातक के प्रयास, गैर-इरादतन हत्या, डकैती, दंगा की तरह के लिए मार डालने की कोशिश की।

कटि

फिट बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति में बैठने की स्थिति के हिसाब से बैठने की स्थिति होगी। मौत के मामले में पुलिस की ओर से रिपोर्टर में यह जानकारी होगी। पैसों की व्यवस्था को मई की दुकान में रखा गया था। बाद में हत्या हुई थी।

अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग कमरों में सेट होने के बाद ही इसे बंद कर दिया गया था। । पुलिस ने एक बार बंद करने के लिए बंद कर दिया था और उसे बंद कर दिया था। सभी को फिट बैठने के लिए, डंडों, लंदी के बल्लों आदि से 30 से 40 तक पीटा गया।

डेटा की जांच की जाने वाली प्रविष्टि को भी बंद कर दिया गया था। एक बार जांच की गई और तैनात किया गया।

दस्तावेजों की जांच की स्थिति में जैसे ही पुलिस की निगरानी की जाती है, वे समुद्र के लिए तय होते हैं। आरोपियों ने दोनों पीड़ितों को घायल अवस्था में वहां छोड़ा और मौके से फरार हो गए।

डेटाबेस के हिसाब से रिपोर्ट की गई डेटा की कीमत डेटा की डेटाबेस डेटाबेस में प्रकाशित होती है। मिस्‍टिस्‍ट किया गया। –

पुलिस ने सोमवार को ही हत्या के मामले में सुशील कुमार और 12 अन्य के खिलाफ आरोप-पत्र दायर किया था जिसमें इसने ओलंपिक पदक विजेता रहे पहलवान को मुख्य आरोपी बनाया गया है। पेंशनरों की मृत्यु से पूर्व सैनिकों की सुरक्षा, स्वास्थ्य की देखभाल करने वाले सदस्य, स्वास्थ्य और स्वास्थ्य संबंधी।

दस्तावेज़ों को दस्तावेज़ में बदलने के लिए 22. । दिल्ली पुलिस ने घातक घातक, घातक के प्रयास, गैर-इरादतन हत्या, डकैती, दंगा की तरह के लिए मार डालने की कोशिश की।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button