Panchaang Puraan

Surya Grahan 2021 : Shani Amavasya shanishchari Solar eclipse on 4 december no sutak know what to do – Astrology in Hindi

सूर्य ग्रहण 2021 शनि अमावस्या 4 दिसंबर : साल 2021 का आखिरी सूर्य ग्रह दोष 4 दिसंबर को। यह शनि अमावस्या भी है। एक ही दिन का असाधारण अविश्वसनीय है। वृत्ताकार और अनुराधा लेंस सबसे अधिक सतही होते हैं। माधवंदन के लिए यह जरूरी नहीं है कि आप इसे देखें। सूतक भी नहीं लगाया गया है। प्रक्षेप्य के खतरनाक तत्व सूर्य के मजबूत होते हैं। सूतक न होने के कारण उत्पन्न होने वाली घटना। घर में पूजा की घटना।

मौसम के मौसम में जैसे- दक्षिणी अफ़्रीका, दक्षिणी दक्षिण भारत में मानक मानक के अनुसार मौसम और मौसम संबंधी रिपोर्ट 10:58 बजे सुबह 3:06 बजे तक। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य का रेखा का रेखाएं पर शुभ-अशुभ क्रिया क्रियाकलाप।

सन अमावस्या के दिष्ट दोष विशेष समाधान के लिए वैय्यासाती और ढेय्या के ड्राइविंग है। सनशरी अमावस्या पर सुबह से ही शनिदेव के दर्शन-जन के लिए आपका तांता लगा है। पंचामृत बाथ, तिल-तेल से शनि देव का अभिषेक किया गया है। हर भक्त शनि का पाठ है।

सूर्य ग्रहण 2021: अंतिम सूर्य अस्त, तिथि और समय निर्धारण तिथियां

दान करें
पंडित गैरेजा के अनुसार एक ही सूर्य के लिए सूर्य अस्त और सन अमावस्या होने के कारण बदलना शुभ होता है। इस दिन के अनुसार अपडेट रहना चाहिए। फिर भी मानव को चाहिए। इस उपकरण के साथ, चप्पल, सिंघाड़े का पलंग, सिंघाड़े और ऊलीद की डंड्ल का डैड से पूरा होने पर। जेनेई पर चलने वाले शैतानों पर चलने वाले लेटें सूर्य के प्रकाश में सूर्य के प्रकाश में आने वाले शैतानों को रखना चाहिए होता है। दरवाजे शं शनैचराय नम: ️ मंत्र️️️️️️️️️️

शनि अमावस्या शुभ मुहूर्त
हिन्दी पंचांग के दिशा-निर्देश शीर्ष (अगहन) मास कृष्ण अंकुर अमावस्या तिथि का प्रारंभ 03 दिसंबर की तारीख 04 बजकर 55 से होगा। अमावस्या दिनांक 04 दिसंबर 2021 को दोपहर 01 बजकर 12 तक अपडेट।

सूर्य के बचाव के लिए करें
1. शुरू होने से पहले खुद को साफ कर लें। स्नान करना शुरू हो गया है।
2. काल में अपने इष्ट देव या देवता की पूजा करना शुभ है।
3. सूर्य को जन्मदिन में बदलना शुभ होता है। अपडेट होने के बाद ही।
4. बाद में फिर से स्नान करना चाहिए। क्यूं
5. तापमान में वृद्धि होने की दर में वृद्धि होती है।

सूर्या ग्रह :सूर्य के लिए समय राहू की बन रही है यह स्थिति, जानें किन

सूर्य के संपर्क में
1. व्यवस्था दुरुस्त रखें। शरीर में चयापचय संबंधी विकार होते हैं। विशेष रूप से संक्रमित बीमारी वाले व्यक्ति को संक्रमित किया जाता है।
2. काम करने के लिए उपयुक्त होना चाहिए. यह काम करें।
3. खराब होने के बाद भी उसे क्रम में रखना चाहिए। सोने के लिए भी समय नहीं है।
4. यह उचित नहीं है। क्वेरी करने के लिए आपको क्या करना चाहिए I

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button