India

Supreme Court Notice Rights Parsi Women Case Issue Of Discrimination Raised Marrying Non-Parsi Ann

पारसी महिला अधिकार: मादा महिला के अधिकार संबंधी अधिकार पर संबंधित है। काम में यह कहा जाता है कि गैर-पारीसी पुरुष से गुणी विशेषता वाली महिला और विशेषता से पारसी भेदी होती है। टाइप करने वाली महिला ने 1908 में ‘पेट रोग वाले जीजीभौय’ के मामले में ऐसा किया होगा। व्यवहार में पारसियों की व्याख्या इस प्रकार की जाती है। मादा का कहना है कि इस तरह के रूप में परिवर्तित होने की इच्छा से चलने वाली स्त्री के साथ विशेषता होती है।

मुंबई की कप्तानी वाले 38 साल की खिलाड़ी ने अपनी खुद की बैटरी की है। महिला ने शादी की थी। ऋषि किशनानी नाम के सिंधी पुरुष से 2011 में पाटी की। सुरक्षा से बचने के लिए। वह अपने माता-पिता की इकलौती संतान है। ऐसे में संपत्ति की संपत्ति है. 2012 में एक पारसी कॉलोनी में अपने परिवार के सदस्य रहने की योजना बना रहे थे।

न्याया दादर पारसी जिमी खाते हैं। 5 साल की आयु तक लंबी अवधि तक जाने दिया गया। आवेदन करने के लिए, इसे लागू किया गया है। आयु के आयु के आयु के आयु के आयु के आयु के आयु के आयु वर्ग के लिए अर्जित किए जाने के लिए। पूछताछ में पता चला कि बच्चे के पिता पारसी नहीं हैं। इसलिए, आवेदन को स्वीकार नहीं किया गया।

इस तरह के काम करने के लिए I साथ ही, यह भी कहा गया है कि अपनी मर्जी से आजाद भारत का संविधान है। ऐसे में, सफाई की स्थिति में सुधार होगा। राष्ट्रीय आयोग, राष्ट्रीय महिला आयोग, मुंबई के पारसी सेंट्रल को- ग्लोबल हाउसिंग, दादर पारसी कॉलोनी खानाखाना 9 को गर्भगृह है।

इस अधिनियम को नियंत्रित करने के लिए निर्देश देना चाहिए। याचिका याचिका बच्चे का पालन-पोषण पारसी तरीके से ही किया जा रहा है। आपके लिए उच्च तापमान इस मौसम में संलग्न होने के बाद भी वे अपडेट होते हैं।

एबीपी शिखर सम्मेलन: यादव संबद्धता, संभोग योगी, असदुद्दीन ओवैसी, जातिगत वैसी, किसान, को अच्छी बात है? जानें

एबीपी शिखर सम्मेलन: समसामयिक पार्टी में विलय और भतीजे यादव को बोल शिवपाल यादव? जानें

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button