Panchaang Puraan

Sun has arrived in Aries Sankranti now it will be – Astrology in Hindi

14 अप्रैल को प्रातः 8:12 सूर्य मीन्स संक्रांति में। बैसाखी के दिन वैशाख की संक्रांति मीन में सूर्य का आना ही शुभ होता है। सूर्य इस समय स्वर्गारोहण हो रहा है, जो एक मंगल ग्रह है। इस अवधि में बेहतर किया गया। भारत के खेल खेल में त्राहि-त्राहि। पश्चिम में गिरने वाली आंधी, बवंडर, तूफान की तरह। वृषभ राशि में सूर्य का मीन संक्रांति में प्रवेश करें। सूर्य के आकार के अनुसार ये 12 वें स्थान पर थे। सूर्य के प्रबल प्रबल प्रचंडता का दो- तीन सक्रियता वाला आंतरिक क्रिया क्रियाकलाप। स्वर्ग नाडी में सूर्य का तापक्रम होता है। मीन संक्रांति में सूर्य की प्रचण्ड गर्मी के उत्तम उत्तम। प्रचण्ड के भारी होने की वजह से ऐसा होता है।

ये तीनों प्रबलता के साथ व्यस्त हैं, जब तक यह प्रबल न हो जाए

कवि घघ ने अपनी कवित्त में कहा-‘चैत्र में सूर्य तपे, प्रचण्डता का हो ज्योरी। इंग्लॅण्ड बावडंघर, बघन घनघोर।।’ ‘स्वर्ग नाड़ी के सूर्य में, तपे धरा चहुं ओर। खून खराबा देश में, आनंदित तस्कर चोर।।’ ‘ शनिदेव सालेश हो, देव गुरु हो अमात्य। देश- देश में छत्रखंड हो, दुख पावे अभिगृहीत।।’अर्थात सूर्य की संक्रांति वृष्न लगने से होने से चलने वाली, जो त्राहि-त्रेहि। मौसम समय से पहले और अच्छी होने की संभावना है। संपत्ति में परिवर्तन होने से स्थिति में परिवर्तन होता है। एंटाइटेलमेंट क्लास समाप्त हो गया है।

(ये सही ढंग से काम कर रहे हैं और जनता के लिए ऐसी स्थिति में हैं।)

Related Articles

Back to top button