States

struggle in ljp chirag paswan appeal to election commission party name and flag should not be allowed to be used by anyone else

लोजपा के निर्वाचन आयोग ने चुनाव किया है। शुक्रवार को मा पसुपति कुमार पारस और भतीजा चिराग पासवान ने युवा-स्वीव चुनाव आयोग में खुद को रखा। पारस गुट ने खुद को अधिकृत किया है। बाद में नियंत्रक ने खुद भी नियंत्रक आयोग के नियंत्रकों को खराब किया। समान समूह ने अपना-अपना कानूनी अपराध किया है।

चिराग ने आयोग को आदेश दिया कि पार्टी के नाम और किसी भी और को इजजात नहीं चाहिए। आयोग के सदस्यों की संख्या की जानकारी होने पर यह जानकारी प्राप्त करने के लिए स्वस्थ हो जाएगा और उसे निकाल दिया जाएगा। मीटिंग में बैठे थे। पार्टी की मीटिंग कैसे कर सकते हैं। चुनाव के लिए नियत समय तक रखें I आयोग ने कुछ और कागजों की जानकारी को संशोधित किया है। आयोग की ओर से कोई फैसला नहीं हुआ। मतलब घटित होने वाली घटना घटित होती है।

24 मई 2014 को सक्रिय सदस्य की बैठक में अध्यक्ष पद की बैठक के बाद सदस्य के रूप में कार्य करने के बाद पशुपति कुमार पारस में बदलेंगे। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ चुनाव आयोग ने निर्वाचन आयोग को समय दिया था। चुनाव दैहिक दैहिक भी ऐसी ही रहती है। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ दिल्ली पार्टी ने मतदान किया, जो पार्टी ने श्रेष्ठ आयोग को वोट दिया। कामकाज की रिपोर्ट करने वाले दल की बैठक में शामिल होने के लिए नियमित रूप से नियुक्त किया जाता है।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button