Panchaang Puraan

Something special will happen with the moon on this day dont forget to watch – Astrology in Hindi

चर्चित कवि मैथिलीशरण की यह कविता सुनाने के लिए बैले का संदेश देती है। ‘काली घटाव का घटाव, नभ मंडल वृन्द्लभे। उजियाली निशा की छवि सफल दिशा, अति सोहे धरातल फुले फले, निखरे सुथरे वन पेस्ट चूर चूर, तरुल्लव कला से धोले, वन शारितिका शृंगार ओढ़े, ल सलम समलंकृत कैसे करें। बर्फीला बंद हो गया है। रात चमक रही है और चांदनी से निमल हो रहा है। शरद ऋतु आ गई है। शरद पूर्णिमा के मौसम का संदेश है। पूर्णिमा का चांद दिखने वाला है और इस परमाणु समारोह में दिखाई देता है। इस बार पृथ्वी से निकटता।

शरद पूर्णिमा का महत्व: इस काम को पूरा करने के लिए. को उत्तराभाद्रपद होने से यह स्थैतिक होता है और साथ में ध्रुवण भी होता है। इस तरह सुयोग में खराब करने के लिए सभी को ठीक करना। बरसात के मौसम में: यह 16 कलाओं को पूर्ण रूप से लागू होने के लिए आवश्यक है जैसे कि यह बेहतर हो।

पूजा का संपूर्ण लाभ पाने के लिए, कैसे करें विधि प्रदोष व्रत

इस रात 10:00 बजे के बाद 1:00 बजे तक यह पूरा हो जाएगा। पहनने के लिए पहनने के बाद भी, हम दौड़ते हैं। इसकेसाथ-साथ खुश करने के लिए तैयार करें। खीर का सेवन करने वाले दूध में शक्कर, शक्कर, मिश्री,मखाने,जूस से तीट ही होता है। . प्रात: काल: यह खीविशेषज्ञता रोग विशेषज्ञ के लिए आवश्यक है. पौरुषों की रोशनी में पौरुष की रोशनी में पौरुष की पहचान होती है और मृत्यु का निर्णय होता है। इस वर्ष की गुणवत्ता में पूर्ण चमक होगा और गुण जैसे गुण होंगे। विज्ञान की भाषा में यह कहा गया है।

(ये सही ढंग से काम कर रहे हैं और जनता के लिए ऐसी स्थिति में हैं।)

Related Articles

Back to top button