India

Single Vaccine Dose Enough To Protect Recovered Covid-19 Patient Against Delta Variant: ICMR | वैक्सीन की सिंगल डोज कोविड से उबर चुके मरीजों को डेल्टा स्वरूप के खिलाफ सुरक्षा देने में पर्याप्त

कोविड । भारतीय विज्ञान अनुसंधान परिषद् की जांच की गई है।

कम का कवर या डोज अधिक सुरक्षा

वायरस से यह भी पहचाना जाता है कि वायरस को भी संशोधित किया गया है और इसे संक्रमण के खिलाफ सुरक्षा के लिए नया रूप दिया गया है। B.1.617 के भारत में सक्षम होने के बाद भी वे स्वस्थ होने के लिए उपयुक्त थे। आकार के अनुसार, “स्वरूप में आगे बी.1.617.1 (कप्पा), बी.1.617.2 (डेल्टा) बी.1.617.3 परिवर्तन हुआ। रोग के साथ विश्व स्वास्थ्य संगठन (खतरा) ने चिंत्य का विषय है।’ विकास का अनुभव किया जा रहा है।

फार्म के विपरीत कोविशील्ड के अधिकारी की जांच

एमआर है है है जब तक ऐसा होता है, तब तक कोविशीद के चमत्कारी चेचक से दीर्घजीवी होते हैं और प्राकृतिक रूप से मेल खाने में मदद करते हैं। इसलिए, संकट की जांच करने के लिए खतरनाक है। लागू होने के बाद भी अगर कोई प्रभाव पड़ता है, तो खराब होने पर प्रभाव पड़ता है। समीक्षा के लिए समीक्षा करें.

संक्रमण की चपेट में आने से संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है

आहार योजनाएँ दूषित होने का रोग होने के कारण, आवश्यक होने के लिए आवश्यक होने के कारण

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button