Education

सिद्धार्थ कंप्यूटर कब बना था? | siddharth computer kab bana

Sidharth computer ko kab banaya gaya tha | When was Siddhartha the computer made?

आज के समय में कंप्यूटर हमारी जिंदगी का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। कंप्यूटर के माध्यम से हम आज के समय में लगभग सभी कार्य करने में सक्षम है। विश्व भर में लगभग सभी लोग कंप्यूटर का तो प्रयोग करते हैं लेकिन शायद ही किसी को पता हो कि भारत का पहला कंप्यूटर कौन सा था?

आज के इस लेख में हम भारत के सबसे पहले कंप्यूटर, सिद्धार्थ कंप्यूटर के बारे में बताने जा रहे हैं। साथ ही हम आपको बताएंगे कि सिद्धार्थ कंप्यूटर कब बना? अगर आप भी भारत के पहले कंप्यूटर के बारे में जानने के लिए उत्सुक हैं तो इस लेख को जरूर पढ़े।

कंप्यूटर क्या है? (What is Computer?)

कंप्यूटर एक ऐसी मशीन है जो सूचनाओं को Store करती है और data को process करती है। कंप्यूटर का आविष्कार पहली बार 1946 में Cambridge कंप्यूटर प्रयोगशाला विश्वविद्यालय में किया गया था, जहाँ वे Vacuum ट्यूब, वाल्व, तार, स्विच, ट्रांजिस्टर और अन्य इलेक्ट्रॉनिक घटकों से बनाए गए थे।

कंप्यूटर लगभग 80 वर्षों से अधिक समय से हैं, और यद्यपि उनके आविष्कार के बाद से उनका उपयोग बहुत बदल गया है, नई तकनीक को समायोजित करने के लिए आज भी कंप्यूटर में सुधार किया जा रहा है।

वास्तव में, कंप्यूटर विज्ञान गणित की एक शाखा है जो गणना और उसके अनुप्रयोगों से संबंधित है; इसमें Programing Language, Algorithms, Scripts, Digital Design, Operating System, Network, Database, AI, Robotics, Graphics, Visualization, Compiler और कई अन्य पहलू शामिल हैं।

सिद्धार्थ कंप्यूटर कब बना? (Siddharth Computer kab bana?)

सिद्धार्थ कंप्यूटर कब बना था? | siddharth computer kab bana

वैसे तो कंप्यूटर का इतिहास बहुत पुराना है लेकिन भारत में कंप्यूटर दशक की शुरुवात 1960 में हुईं। भारत का पहला कंप्यूटर 1955 में बनाया गया था। भारत का पहले कंप्यूटर का नाम सिद्धार्थ था।

इसे Electronics Corporation of India ने बनाया था। इसे पहली बार 16 अगस्त 1986 में बेंगलुरु के मुख्य डाक ऑफिस में लगाया गया था। सिद्धार्थ कंप्यूटर एक analog कंप्यूटर था।

स्वतंत्रता के बाद सिद्धार्थ कंप्यूटर भारत की कंप्यूटर जगत में पहली जीत थी। आज के समय में भारत के हर एक घर में कंप्यूटर या mobile phone है।

भारत का पहला कंप्यूटर “सिद्धार्थ” कैसे काम करता था? (How did India ‘s first computer ” Siddharth” work?)

भारत का पहला कंप्यूटर सिद्धार्थ Analog Signal पर based था। इसका प्रयोग केवल Calculation करने के लिए होता था। इसके अलावा यह तापमान और मौसम के बारे में भी बताता था।

Analog कंप्यूटर डिजिटल values का उपयोग करने के बजाय analog values की गणना करके काम करते हैं। एक digital value (0-1) सूचना की एक binary unit का प्रतिनिधित्व करता है जहां शून्य का अर्थ गलत और 1 का अर्थ सत्य है।

इसके विपरीत, एक Analog computer में values 0 और 1 के बीच होता है, जहां 0 का मतलब बिल्कुल भी सिग्नल नहीं होगा और 1 का मतलब अधिकतम सिग्नल होगा। सिग्नल को ठीक से मापने के लिए, Resistor नामक कई विद्युत घटकों का उपयोग किया जाता है।

Digital कंप्यूटर और Analog कंप्यूटर में क्या अंतर है? (Difference Between Digital Computer and Analog Computer?)

डिजिटल कंप्यूटर में डिजिटल signals का प्रयोग होता है जिसमें 0 और 1 binary numbers  हैं और यहां पर 0 का मतलब गलत और 1 का मतलब सत्य होता है।

Analog Computer में analog signals का प्रयोग किया जाता है जहां पर 0 का मतलब कोई सिग्नल नहीं और 1 का मतलब signal है।

Digital Computer Analog Computer से ज्यादा तेज होता है।

आज के समय में Analog कंप्यूटर को डिजिटल कंप्यूटर ने Replace कर दिया है क्योंकि डिजिटल कंप्यूटर कैलकुलेशन के अलावा और बहुत सारे काम कर सकता है जैसे इंटरनेट चलाना, गेम्स खेलना इत्यादि।

कम्प्यूटर का हमारे जीवन में क्या महत्व है? (Importance of computer in our life)

  • कंप्यूटर एक मशीन है जो हमें सूचनाओं को व्यवस्थित करने में मदद करती है। यह सूचनाओं को संग्रहीत करता है और डेटा को संसाधित करता है। हम कंप्यूटर का उपयोग पत्र लिखने, गृहकार्य करने, खेल खेलने, फिल्में देखने और अन्य चीजें करने के लिए करते हैं!
  • कंप्यूटर प्रौद्योगिकी तेजी से आगे बढ़ रही है। वर्ष 2000 में पर्सनल कंप्यूटर नहीं थे; अब आप उन्हें हर जगह पा सकते हैं। वास्तव में, यहां तक ​​कि फोन में भी computing शक्ति होती है और उन्हें एक प्रकार का कंप्यूटर माना जाता है।
  • कंप्यूटर ने दुनिया भर में लाखों लोगों के जीवन को बेहतर बनाने में मदद की है। वे समय, धन और प्रयास बचाने में मदद करते हैं। लोग तेजी से, आसान और सस्ता काम करने के लिए कंप्यूटर पर निर्भर हैं।
  • कंप्यूटर हमारे जीवन को आसान बनाते हैं। वे लगभग किसी भी चीज़ में हमारी मदद कर सकते हैं जो हमें करने की ज़रूरत है। चाहे वह दोस्तों और परिवार के साथ संवाद करना, स्कूल या काम पर शोध करना, या वीडियो गेम खेलना हो, कंप्यूटर हमारी दिनचर्या का एक बड़ा हिस्सा बन गया है।
  • बहुत से लोग कंप्यूटर के बारे में तब तक नहीं सोचते जब तक उन्हें कुछ हो नहीं जाता। यदि आप अपना लैपटॉप खो देते हैं, या यदि आपकी हार्ड ड्राइव विफल हो जाती है, तो आपको बहुत बुरा लगेगा। हालाँकि, जब आपके पास अच्छे बैकअप हों, तो यह वास्तव में मायने नहीं रखता। आपको हमेशा अपनी फाइलों का बैकअप लेना चाहिए ताकि अगर आपके कंप्यूटर को कुछ हो जाए, तो आप सब कुछ नहीं खोएंगे।
  • अंत में, कंप्यूटर अद्भुत मशीनें हैं जो हमें कई काम करने की अनुमति देती हैं। हम आज उनके बिना नहीं रह सकते है, और शायद हम नहीं चाहेंगे। यदि आप नौकरी की तलाश में हैं, तो आप एक प्रोग्रामर बनने पर विचार कर सकते हैं। प्रोग्रामिंग आपको ऐसी चीजें बनाने का मौका देती है जो लोगों के जीवन को बदल सकती हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

आज के इस लेख में हमने कंप्यूटर कब बना? इसके ऊपर जानकारी दी हैं। उम्मीद है कि आपको सिद्धार्थ कंप्यूटर से संबंधित सभी जानकारियां मिल पाई होंगी। अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई है। तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। अगर आपको इस लेख से संबंधित कोई सवाल है तो वो भी आप हमसे कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकते है।

FAQs

प्रश्न: भारत का पहला कंप्यूटर किस टेक्नोलॉजी पर based था?

उत्तर: भारत का पहला कंप्यूटर सिद्धार्थ Analog Signal पर based था।

प्रश्न: सिद्धार्थ कंप्यूटर किस कार्य के लिए यूज किया जाता था?

उत्तर: सिद्धार्थ कंप्यूटर का प्रयोग तापमान मापने, जलवायु देखने और मौसम से related जानकारी को कैलकुलेट करने के लिए किया जाता था।

प्रश्न: भारत के प्रथम कंप्यूटर का नाम क्या है?

उत्तर: उसी समय, भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर में एक एनालॉग कंप्यूटर भी स्थापित किया गया था, जिसका उपयोग डिफरेंशियल एनालाइज़र के रूप में किया जाता था। लेकिन इन सबके बाद भी भारत में कंप्यूटर युग की शुरुआत वास्तव में वर्ष 1956 में हुई, जब भारत का पहला इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटर HEC-2M ISI कोलकाता में स्थापित किया गया था।

प्रश्न: प्रथम कंप्यूटर कौन सा है?

उत्तर: भारत में निर्मित प्रथम कंप्यूटर का नाम सिद्धार्थ है। इसका निर्माण इलेक्ट्रॉनिक कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया द्वारा किया गया था।

Related Articles

Back to top button