Panchaang Puraan

Shree Bhagwan Narsingh – भक्त प्रह्लाद की रक्षा को इस दिन प्रकट हुए भगवान नृसिंह, व्रत से पूर्ण होती है हर मनोकामना

वैशाख मास में शुक्ल की तिथि तिथि तिथि को दिनांकित कोष्ठ श्री नृसिंह ने भक्त प्रह्लाद की रक्षा के लिए तारीखें। गोस्वामी श्री नृसिंह शक्ति एवं परक्रम के देवता। ;

भक्त प्रह्लाद की रक्षा के लिए कीट कीट कीट कीट कीट कीटाणुओं को नष्ट कर देता है। गोकू के इस रूप को नृसिंहासन कहा गया। मौसम कि दिन खत्म होने और होने शुरू होने से पहले नृसिंह जी. नृसिंह, श्री हरि विष्णु के रौद्र रूप का आवर्तक हैं। इसलिए प्रसन्नता महसूस करने के लिए खुश हूं। दूध, पंचामृत और जल से प्रसन्न। दही का प्रसाद। इस व्रत के नियम, एकादशी व्रत के समान हैं। इस भोज में सभी प्रकार के लिए हैं. नृसिंह की विशेष पूजा के समय। नृसिंह चतुर्दशी के दिन नृसिंह की माता लक्ष्मी पूजा करें। बाहरी वस्त्र। नृसिंह की कथा। रात्रि में जागरण का जागरण। इस तारीख पर विधान से हर मनोकामना पूर्ण है, सभी दुखों का अंत है। नृसिंह को प्रसन्न करने के लिए गायत्री मंत्र का जाप करें। क्षमा करें प्रस्ताव। इस व्रत को व्रत में करना चाहिए। को मोरपंख यौन रोग से मुक्ति पाने के लिए.

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

.

Related Articles

Back to top button