Breaking News

shraddha murder case aftab poonawala remand police ask 10 secrets not revealed

श्रद्धा मर्डर केस: श्रद्धा वाकर मर्डर केस में दिल्ली पुलिस तक अभी तक सारे जरूरी सबूत लीक नहीं कर पाई है। हत्याकांड से जुड़े हर अहम सवालों के जवाब और सबूतों को मिलाकर करने के लिए पुलिस ने हत्यारोपी आफताब पूनावाला (Aftab Poonawalla) को गुरुवार को साकेत कोर्ट में पेश किया। राहत की बात रही कि पुलिस को आफताब की पांच दिन की रिमांड मिल गई है। आफताब की कस्टडी मिलने के बाद पुलिस अब सभी अनसुलझे सवालों के जवाब खोजने की पूरी कोशिश करेगी।

हत्या के सही-सही कारणों से लेकर शव के 35 टुकड़े करने से लेकर कितने दिनों तक मरडर केश को छुपाए रखा, इन सभी सवालों के सटीक जवाब मिलने की आशा जा रही है। पुलिस सूत्र की बात तो आफताब बहुत ही चालाकी से पुलिस के सवालों का जबाव देते हुए जांच एसेंसी से बचने की पूरी कोशिश कर रहा है।

श्रद्धा मर्डर केस से अनसुलझे 10 प्रश्न:-

1-श्रद्धा की हत्या के बाद शव के टुकड़े करने के लिए इंस्ट्रूमेंट नहीं मिला
श्रद्धा वाकर की गला दबाकर हत्या करने के बाद आफताब ने अपने शव को 35 मोहरे में काट दिया था। सूत्रों का कहना है कि अहमदाबाद में लेजाकर शव के टुकड़े करने के बाद आफताब ने कैमिकल से खून के निशान भी साफ किए थे। लेकिन, पुलिस जांच में अभी तक शव के टुकड़े करने के लिए आफताब द्वारा इस्तेमाल किए गए उपकरण की बारामदगी नहीं हो सकी है। ऐसे में मामले को मजबूत करने के लिए पुलिस की मुश्किल बढ़ सकती है।

2-मर्दा और शव के टुकड़े सोते हुए खून से सने कपड़े कहां गए?
आफताब द्वारा श्रद्धा मर्डर करने के बाद उसके शव के टुकड़े आफताब कई दिनों तक करता रहा। फॉरेंसिक न्यूनाधिक होने का अंदाजा है कि ऐसा करने से पूरे घर में खून ही खून होगा। अब सवाल उठ रहा है कि खून से सने शुभ्र और आफताब के कपड़े आखिर कहां हैं? पुलिस सूत्रों का कहना है कि आफताब का कहना है कि उसने कपड़ों को कूड़े की गाड़ी में फेंक दिया था। अगर आफताब की यह बात सच है तो पुलिस की एक बार फिर से कद बढ़ने का अनुमान लगाया जा रहा है।

3-पुलिस जांच में अभी तक सीसीटीवी फुटेज नहीं मिला
श्रद्धा मर्डर मामलों में पुलिस हर कोण से जांच कर रही है। आफताब के कबूलनामे से लेकर इलेक्टॉनिक के साथ ही फॉरेंसिक फैक्ट्स भी जुटाए जा रहे हैं, ताकि हत्यारे आफताब को कड़ी सजा मिल सके। लेकिन, जांच में पुलिस को कई रुकावटों का सामना करना पड़ रहा है। जांच एजेंसी को इस मामले में अभी तक कोई सीसीटीवी फुटेज नहीं मिला है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि चूंकि यह मामला करीब-करीब छह महीने पुराना है, जबकि ज्यादा तकनीक में अधिकतम दो महीने तक की रिकॉर्डिंग उपलब्ध है।

4-मर्डर केस में के बाद क्या रेफ्रिजरेशन सबूत?
हत्या के बाद शव के मोह को आखिरकार कहां सुरक्षित रखा गया था? पुलिस के लिए यह किसी पहेली से कम नहीं है। हत्यारे आफताब के कबूलनामे के आधार पर पुलिस उसे घेरकर भी ले गई थी, जहां से शव के मोहरे को इकट्ठा किया गया था। लेकिन, पुलिस घर के अंदर खाली फ्रीज ही बरामद हुई थी। शव के मोह की पहचान के लिए पुलिस ने उसके पिता का भी डीएनए सुरक्षित कर लिया है।

5- श्रद्धा के मोबाइल फोन की बरामदगी जरूरी
पुलिस पूछताछ में हत्यारे आफताब का दावा है कि उसकी हत्या के बाद श्रद्धा का मोबाइल फोन फेंक दिया गया था, लेकिन वह अपना सोशल मीडिया अकाउंट लगातार इस्तेमाल कर रहा था। पुलिस का दावा है कि श्रद्धा, और आफताब के कॉल डिटेल से जांच एजेंसी को कई अहम मार्कर मिले हैं। श्रीमान की हत्या के राज को छिपाने के लिए आफताब श्री का सोशल मीडिया अकाउंट अकाउंट खुला रहने से इस्तेमाल कर रहा है। यही नहीं, सोशल प्लेटफॉर्म पर लोगों को यह विश्वास के लिए श्रद्धा जिंदा है, आफताब ने कई पोस्ट भी किए। यहां तक ​​कि आफताब ने क्रेडिट कार्ड का भी बिल जमा कर दिया था।

6-छह महीने तक कैसे छुपाया शुभ्र का मर्डर
पुलिस सूत्र हर कोण से जांच करने में जुटी हुई है। पुलिस इस बात से भी हैरान है कि आखिरकार हत्यारे आफताब ने छह महीने तक यह राज कैसे छुपाए रखा। पूछताछ के दौरान आफताब का रवैया बहुत अलग था। मर्डर करने का आरोप बढ़ा रहे आफताब जांच एजेंसी से बिल्कुल सामान्य तरीके से बात कर रहा था।

7-लिव-इन के बाद क्या शादी बनी शुभ्र की हत्या की वजह?
नई जिंदगी की आस लेकर मुंबई से दिल्ली अपने दोस्त आफताब पूनावाला के साथ पहुंचें श्रद्धा वाकर को हर कदम में धोखे ही धोखे खाने को मिले। लिव-इन में रहकर उसने अकसर आफताब पर शादी करने का दबाव बनाया था। तीन साल के लिव-इन रिलेशनशिप के बाद श्रद्धा अपना घर बसाना चाहती थी। शादी की बात लेकर अकसर दोनों के बीच झनझनाहट और मारपीट तक हुई थी। रोज़-रोज़ की मानसिक प्रताड़ना से तंग आकर श्रद्धा अकसर आफताब से अपनी नाता तोड़ने की बात कह रही थी। पुलिस सूत्रों की बात तो आफताब के कई लड़कियों के साथ संबंध थे।

8-आफताब की श्रद्धा मर्डर मामलों में किसी ने मदद या अकेले दिया घटना को अंजाम दिया?
श्रद्धा मर्डर मामलों में पुलिस हर कोण से जांच पड़ताल करने में जुटी है। पुलिस सूत्रों की बात तो आफताब, और श्रद्धा के कॉमन फ्रेंड से पुलिस पूछताछ करेगी ताकि कोई भी अपराधी इस हत्याकांड से बच न सके। पुलिस की पूछताछ में आफताब के कई बयानों पर संदेह है। यही कारण है कि वह अपने हर बयान की तस्दीक करना चाहते हैं। पुलिस इस बात का पुख्ता करना चाहती है कि क्या शुभ्र की हत्या के बाद शरीर के टुकड़े करने के लिए एक ही हथियार, या एक से ज्यादा धीमी का इस्तेमाल किया गया था?

9- श्रद्धा के बैंक खाते में कितने पैसे की फुज्जी सेंध
श्रद्धा हत्याकांड में एक के बाद एक हैरान करने वाले खुलासे हो रहे हैं। पुलिस जांच में यह बात सामने आई है कि श्रद्धा की हत्या करने के बाद आफताब ने अपने बैंक खाते में भी सेंध लगाई। शुरुआती जांच में यह बात सामने आई है कि हत्यारोपी आफताब ने अपने बैंक खाते से 54 हजार रुपये अपने बैंक खाते में वोटिंग के लिए रखे थे। आफताब ने पुलिस को बताया था कि 22 मई को श्रद्धा घर छोड़कर जा चूका है, लेकिन जांच में यह बात सही है कि 26 मई को उसके एकाउंट से रुपये आफताब के एकाउंट में वोटिंग हुई।

10- कोई मर्डर सबसे पहले क्या किया है?
पुलिस की पूछताछ के दौरान भी आफताब नई लाइनअप से आंखों में डाल कर हर सवालों का जवाब दे रहा था। लेकिन, जांच एजेंसी के सवालों के जवाबों के बीच आफताब के एक झूठ ने अपनी पोल खोल दी। हत्यारे आफताब ने 18 मई को श्रद्धा की गला दबाकर हत्या कर दी थी। इसके बाद शव के टुकड़े जंगल में धीरे-धीरे फेंकते रहते हैं। करीब-करीब छह महीने बाद नवंबर में हत्या के राज से परदा उठाएं। मर्डर और शव के टुकड़े करने के बाद आफताब एक और लड़की को भी अपने फ्लैट में लेकर आया था। पुलिस अब आफताब के कई सालों के रिकॉर्ड पर लगी है।

आफताब पूनावाला के ये सबूत ऐकता
– मर्डर के बाद सभी गए सामान के बिल, और दुकानदारों के बयान।
– आफताब की कॉल डिटेल एक अहम सबूत
– आरी, ब्लेड समेत अन्य इंस्ट्रूमेंट्स बेचने वाले शॉपर्स के कंजेशन।
– श्रीमान के पिता, फ्लैट में पड़ोसी व श्रीमान के दोस्तों के बयान।
-श्रद्धा के सोशल एकाउंट की कल्पना।
– शव के टुकड़े करते वक्त चोटिल आफताब के इलाज करने वाले डॉक्टर के बयान।
– महरौली जंगल से मानव शरीर का हिस्सा, श्रद्धा के पिता का डीएनए भी लिया।
-श्रद्धा की मीनिंग की सूचना पुलिस को नहीं देना चाहिए

आफताब को लेकर हिमाचल प्रदेश भी पुलिस जाएगा
सबके भारी विरोध-प्रदर्शन के बीच कोर्ट ने हत्यारे की रिमांड को बंधक बना लिया है। पुलिस सूत्रों की बात तो आपताब को हिमाचल प्रदेश भी लेकर जाएगा। प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आई कि कि श्रद्धा, और आफताब के बीच हिमाचल प्रदेश के दौरे के दौरान साम हुआ था। झट के बाद ही आफताब ने शुभ्र के मर्डश्र करने का मूड बना लिया था।

आफताब के दिल में और कितने राज, पुलिस को नार्को टेस्ट का लाइसेंस
श्रद्धा हत्याकांड मामले में गिरफ्तार पंच आफताब पूनावाला का नार्को टेस्ट करने को कोर्ट से मंजूरी मिल गई है। महिला मित्र की हत्या के मामले में नार्को टेस्ट के लिए साकेत कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को हरी झंडी दे दी है। जिसके बाद अब इस पूरे मर्डरकांड का सच पुलिस आफताब से उठेगी। पुलिस की पूछताछ से बचने के लिए हत्यारे आफताब हिंदी की जगह अंग्रेजी भाषा में जवाब दे रहे हैं। आफताब के इन सभी स्टेकपेंचों से निपटने के लिए पुलिस ने नार्को टेस्ट के लिए कोर्ट में आवेदन किया था।

Related Articles

Back to top button