India

Shiv Sena Attack On The Center On No Death Due To Oxygen Deficiency, Sanjay Raut Said, They Are Lying | ‘ऑक्सीजन कमी से मौत नहीं’ पर शिवसेना का केंद्र पर हमला, संजय राउत बोले

नई दिल्ली: कोरोना की सक्रियता के बाद की सक्रियता के दौरान गतिविधि को कम करने के लिए सक्रिय कार्यकर्ता पोस्ट करें जब आप सक्रिय हों, तो आप सक्रिय कार्यकर्ता होंगे जो सक्रिय कार्यकर्ता होंगे और जो लोग सक्रिय होंगे वे करेंगे सक्रिय होने के बाद की स्थिति के अनुसार, डेटाबेस से संबंधित गतिविधियां सक्रिय करें। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है इस बैठक के बारे में समीक्षा केंद्र सरकार पर शिकंजा कसने के लिए कहा जाता है। शिवसेना ने भी इस पर केंद्र सरकार पर हमला किया है।

एनवाईसीबीबैं.बी.बी.ए. ने कहा, ” मेरे पास शब्द हैं। ???? सरकार के मामले में अंतर होना चाहिए। वे झूठ बोल रहे हैं।”

हवा पर पलटवार
संजय रुबीत के इस कार्यक्रम पर दोबारा पोस्ट किया गया, जैसा कि कहा गया था कि स्थिति को बदलने की स्थिति में ऐसा होगा जैसा कि स्थिति में होने की स्थिति में होता है। मिना क्षिणी ने लिखा, ”संजय रुबयत जी मैं हूँ और दैनिक की बात से स्बतब. सरकार के खिलाफ़ और मिडिया के लिए ऐसा करने की स्थिति में होने की स्थिति में ऐसा करने की स्थिति में ऐसा होता है।. दिल्ली राज्य पर भी तर्क लागू है जो का केंद्र था।”

मौसम हन उत्पाद आप
केंद्र सरकार पर फिर से लड़ने के लिए संदेश भेजने के बाद बिस्तरों में लड़ाई लड़ेंगे।………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………….. दिल्ली सरकार कह रही है कि पानी पर स्क्वीक कर रहे हैं। परिवर्तन आम आदमी पार्टी ने कहा कि वोट देने वाले के इस कार्यक्रम को समिति में ख़ूब हनन का प्रस्ताव पेश किया जाएगा।

सरकार में क्या कहा?
स्वस्थ्य मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार साँबंघ है, हम कंप्लीट करते हैं, प्रेसते हैं। पर्यावरण के पर्यावरण के अनुकूल होने के मामले में यह वैज्ञानिक प्रकृति के पर्यावरण के क्षेत्र में वैज्ञानिक हैं। केंद्र I मतलब ये कि सवालों के सवालों के जवाब के लिए इंटरनेट पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ ये भी ध्यान देने योग्य नहीं है कि जांच की गई की जांच करने के लिए क्या किया गया था? ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ ️

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button