Panchaang Puraan

shardiya navratri now Venus transit 2022 shukra ka kanya rashi mein rashi parivartan zodiac signs rashifal horoscope

आश्विन कृष्ण मंगल ग्रह तिथि 24 तारीख़ 2022 तारीख़ को शुभ मंगल ग्रह के शुभ ग्रह ग्रह के मित्र ग्रह ग्रह मित्र ग्रह कन्या राशि में शुक्र ग्रह मित्र ग्रह ग्रह कन्या राशि में शुक्र है । है।
भारत पर प्रभाव :-
* भारत के प्रतिभाशाली निखरेगी
*व्यापार के नए विकास ,नई का विकास
*कला क्षेत्र के लिए समय ठीक
*इंप्रॉपमेंट और विज्ञापन नई घोषणा।
*आम जन मानस के उत्तम उत्तम सुख में वृद्धि
*निश्मैल या
*इस समय महिला के नजरिए से समय-समय पर व्यवहार करता है।
*अभिनय पार्टी में प्रचार की क्षमता में वृद्धि होने वाली भी।

मीन :- धनेश और सप्तमेश षष्ट भाव।
*धन कार्यो में रुकावट
*व्यावसायिक व्यवसाय, सेल बाजार ,टीचिंग से हानिकारक
लोगों को तनाव
*परिवार तनाव या खर्च
*दम्पत्य जीवन ,प्रेम संबंध अवरुद्ध पूर्ण
*एलर्जी की ,इनर
*रोजगार को टेंशन
*यात्रा यात्रा
उपाय :- गाय को हेरा हलाला।

वृष :- लग्नेश-रोगेश पाचन में।
*स्वास्थ्य की दृष्टि से उत्तम
* आय की वृद्धि में
*व्यापार में कटि के योग
*बुद्धिमत्ता के आधार पर समय अनुपयुक्त
*विद्या वृद्धि, योग्यता के लिए अनुकूल
*प्रेम और दाम्पत्य जीवन के ठीक समय
*मनोबल बुखार हो सकता है ध्यान
:- मूल कुमर्स के आकार के आधार पर

मिठाइयाँ :- भोजन और पंचमेश मौसम में।
*सुख के गलत व्यवहार में
*सुख के घर का काम खर्च खर्चा
*माता का स्वास्थ्य ठीक रहेगा
*संत को चिंता खत्म हो गई है
*पढ़ाई मध्यम
*घरेलू शोध में प्रश्न
*कलरष्टिशक्ति में वृद्धि,
उपाय :- माता दुर्गा की उपासना उत्तम फलित।

कर्क :- सुखेश-आयश परक्रम भाव में।
*आंतरिक भय में वृद्धि
*आया को विरोध करने वाला क्रियाकलाप
*सुख के तनाव का तनाव
*भाग्य का साथ
*मित्रो, भाई , असंतुलित से
*माता का स्वास्थ्य तनाव दें सकता
*घर और वाहन को चिंतित करें
उपाय :- गाय की सेवा और बुआ को कुछ दे।

सिंह :- परक्रमेष और राज्य मौसम में।
*धनागम होगा , व्यवसाय व्यवसाय से लाभ
*व्यावसायिकता से लोगों को नुकसान
*सिंगार,वकालत, सेल्स मार्किट से जूडे लोगो को लाभ
*पारिवारिक वृद्धि, कुटुम्ब में नया कार्य
*परिश्रम कार्य क्षेत्र में रुकावट
*शुगर आदि समस्याएं सावधान रहें
*कलात्मकता में वृद्धि
उपाय:- शुक्रवार के दिन फलीदार दृश्य पर देखने के लिए।

कन्या :- धनेश और नियति भाग्य में।
*धनगमन अचानक धन लाभ के योग
*परिवार खुशी-खुशी खुशियाँ
*भाग्य का साथ प्राप्त करें
*जीवन साथ और प्रेम प्रेम में शादी
*रोजगार ,व्यापार के कट की सम्भावित
*कलाकार ठीक है
*वाणी पर वार
:- मूल कुम कुमरा के अनुसार या या ओबल कॉर्टिंग उपाय करें।

तू :-्नेश और अष्टमेष भोजन भाव में।
*जीवन के आनंद में वृद्धि
*खर्ची पर खर्च
*मनोबल बुखार हो सकता है
*पारिवारिक तनाव या वृद्धि में
*अचानक यात्रा के खर्च में वृद्धि
*स्वास्थ्य तनाव दें इस बीच
*नजदीकी व्यक्ति व्यक्ति
उपाय:- मूल कुंडली के शुक्र को मजबूत करें।

वृश्चिक :- सप्तमेश-विस्फोट भाव में।
*व्यापार में वृद्धि
*आय और लाभ में वृद्धि
*संतान की चिंता बढ़ सकती है
*पढ़ाई से मन है सकता
*जीवनसाथी का समर्थन सानिध्य एवं लाभ
*प्रेमपूर्ण में कट या नए प्रेम संबंध बन सकते हैं
*उत्साह में वृद्धि
उपाय :- माता दुर्गा की उपासनास्सर होगा।

धनु :- रोग और राज्य के वातावरण में।
* आय के संकेतकों में वृद्धि हुई है
*परिश्रम कार्य में रुकावट
*सुख और सुख के क्षेत्र में वृद्धि
*माता के स्वास्थ्य और सहायता सानिध्य में वृद्धि
*रोजगार के लाभ बढ़ाएँ,सरकारी लाभ
*स्थल पर कार्य गतिविधि लक्ष्य लक्ष्य
*रोग,ऋण, शत्रु दुर्बलता विजयी
उपाय :- शुक्रवार के दिन माता दुर्गा को मिष्ठान का भोग।

मकर पंचमेष और राज्य का भाग्य भाव।
*भाग्य का साथ
*संक्रमण से वंश का लाभ
*पाइग्रेशन के हिसाब से अलग-अलग हिसाब से
*कमकमबाद के बाद भी सफलता
*प्रमुख या उच्च प्रतिपालक का समर्थन सानिध्य,
*अदृश्य भय की स्थिति हो सकती है
*कलात्मकता में वृद्धि
उपाय: :- मूल रूप से कुमर्स के लिए फ़ॉर्मेटिंग करने के लिए ऐसा करना होगा।

कुम्भ :- सुखेश और नियति अष्टम भाव।
*धनगमन में वृद्धि, पेट की समस्या में वृद्धि
*परिवार में नया कार्य ,सकारात्मक वृद्धि
*सुगर, इनर समस्या के तनाव
*माता के स्वास्थ्य की प्रतिनियुक्ति संबंधी चिंता
*गृह और वाहन को चिंता
*व्यावसायिकता, सेल्स, नीति से लाभ
*भाग्य में रुकावट
उपाय:- कुंडली के हिसाब से मजबूत का उपाय करें।

मीन: – परक्रमेष और अष्टमेश सप्तम भाव में।
*व्यापार कार्य में तनाव के साथ प्रगति
*मानसिक तनाव बढ़ रहा है
*भाई बंधुओ मित्रो से तनाव या अडच
*जीवनसाथी के स्वास्थ्य को चिंता
*साझेदारी में गलत फहमी
*फ़ेशन पर ख़रीदें
*एली की समस्या से सामना करने वाला व्यक्ति
उपाय:- शुक्रवार के दिन माता दुर्गा को मिश्री की शादी बांटना।

Related Articles

Back to top button