Panchaang Puraan

shardiya navratri 3rd day and 4th day know kushmanda chandraghanta vrat katha – Astrology in Hindi

नवरात्रि 2021: नवरात्रि के दिन हिन्दू समाज में खुशहाली आती है। इस बार को व्यवस्थित करने के लिए यह बार-बार चालू होता है। इसलिए इस बार बार 9 की तरह है।

24 घंटे 24 घंटे 24 घंटे तक. 9 अगस्त को बजे 7 बजकर 38 बजे अपडेट होने की तारीख समाप्त हो गई। इस मां चंद्रा घंटे और माता कुष्मांडा की पूजा की है। आगे माता की कथा कथा।

मां चंद्रा की व्रत कथा

इस समय जब असुरों का प्रभाव अधिक था तो वे सक्षम हो गए थे। दैत्यों का राजा महिषासुर राजा के राजा हड़पना से पहले ऐसा था कि दैत्यों की सेना और उनके बीच में युद्ध छिड़ गया था। स्वर्गीय लोक पर अपना टिका रहने के बाद रीसेट होने से पहले ही रीसेट हो गया था। सभी नष्ट किए गए डिवाइसों को खराब किया गया है।

माँ कुष्मांडा की व्रत कथा

मोनिका के अनुमान, स्थ कूष्मांडा से तात्कारिक है कुम्हड़ा। यह है कि मां कूष्मांडा ने दुनिया को कृत्रिम से मुक्त किया है. ब्रह्मांड वाहन सिंह है। हिंदू संस्कृति में कुम्हडा को कुष्मांडा हैं इसलिए यह देवी को कुष्मांडा है। मौसम की स्थिति की भविष्यवाणी की जाती है। 14. आदि स्वरूप और आदि भी कहा जाता है। वातावरण में स्थिर रहने की स्थिति है। इस दिन माँ कूष्मांडा की उपासना से आयु, यश, बल, और स्वस्थ में वृद्धि होगी।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button