Panchaang Puraan

shardiya navratri 2022 date time puja vidhi durga puja samagri list navratri kab se hain – Navratri 2022 : श्राद्ध के बाद शुरू होंगे शारदीय नवरात्र, नोट कर लें डेट, पूजा

पितृ के बाद के दिनों में श्राद्ध शुरू हो जाते हैं। आश्विन मास में शुक्ल की तारीख से शुक्ल की तारीख से तारीख शुरू हो जाएगी। हिन्दू धर्म में नवरात्रि का अधिक महत्व है। , प्रसन्नता के लिए भक्त व्रत भी। परिवार के अनुसार रहने के तरीके के अनुसार- सभी प्रकार के रहने के तरीके आइए त्यबोध, विधि और दुर्गा पूजा की सामग्री लिस्ट….

शारदीय नवरात्रि-

  • हिंदू पंचांग के शारदीय पर्व पर्व, 26 प्रभामंडल से प्रभामंडल। शारदीय पर्व पर्व 2022 को पूरा होगा।

नवरात्रि का पूरा कैलेंडर-

(पहल दिन) – 26- मां शैलपुत्री की देखभाल की स्थिति
(दूसरा दिन) -27 -मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की स्थिति
(तीसरा दिन) -28 – मां चंद्रा घंटे की पूजा की जाती

(था दिन)-29चौमां कुष्मा की पूजा की स्थिति

(पांचवा दिन)-30- मां स्कंदमाता की पूजा
(छठां दिन)- 1- मां कात्यायनी की पूजा
(सातवां दिन) -2 पूजा- मां कालरात्रि की पूजा
(आठवां दिन) -3 पूजा- मां महागौरी
(नौंवा दिन) -4 ऑब्जर्वर- माँ सिद्धिदात्री की पूजा

कन्या राशि में बुध वक्री: बुध कन्या राशि में वक्री, मीन से मीन राशि वाले के जीवन में मंत्र मंत्र, राशिफल

पूजा-विधि

  • उठने के बाद जल जल कर लें, फिर पूजा करने के स्थान पर गंगाजल अशुद्ध शुद्धि करें।
  • घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • मां दुर्गा का गंगा जल से प्रार्थना करें।
  • मांज को अक्षत, सिन्दूर और लाल रंग के रोग, प्रसाद के रूप में फल और फलियां।
  • धूप और दीपक जलाकर दुर्गा चालीसा का पाठ और फिर माँ की आरती करें।
  • माँ को भोग भी। इस बात का भी ध्यान रखें कि सात सात्विक सम्भोग का भोग भोग्य हों।

पूजा सामग्री की सूची

  • लालचुनरी
  • लाल वस्त्र
  • मौली
  • सूचना का दोष
  • दीपक
  • घाव/तेल
  • धूप
  • कोनी
  • साफ सुथरा
  • कुमाकुमा
  • फूल
  • देवी की प्रतिमा
  • पान
  • सुपारी
  • लोंग
  • प्रतीक
  • बैठकें या मिसरी
  • कूपर
  • फल-मिठाई
  • कलावा

Related Articles

Back to top button