Lifestyle

Shani Transit In February 2022 Shani Dev Transit From Shravan Nakshatra To Dhanishta Nakshatra

2022 में शनि नक्षत्र गोचर: ज्योतिष विज्ञान में शनि का परिवर्तन और परिवर्तन हो गया है। शनि की चाल चल रही है. शनि वर्ष वर्ष वर्ष एक वर्ष में समान होते हैं। वर्ष 2022 में शनि का राशि परिवर्तन भी है। लेकिन पहले शनि अस्त हो गया है।

शनि नक्षत्र 2022 (शनि नक्षत्र पारगमन 2022)
पंगंग के सेट समय में सूर्य सूर्य के सामने स्थित है। खगोल विज्ञान के अनुसार शनि देव का गोचर 22 जनवरी 2021 तक। शनि देव नक्षत्र में 18 फरवरी 2022 तक। 18 फरवरी से शनि धनी नक्षत्र में गोचर। जहां पर शनि वर्ष या 15 मार्च 2023 तक असामान्य हो।

धनिष्ठा नक्षत्र (धनिष्ट नक्षत्र)
ज्योतिष के अनुसार धनिष्ठा 4 नक्षत्र का समूह, ढोल या मरदंग की आकृति जैसा दिखता है। इस ध्वनि को ध्वनि से ध्वनिक प्रदर्शित किया जाता है, जो रिकॉर्ड का अर्थ है अहं का ध्वनि है। मौसम के दौरान के मौसम पर थाप से उत्पन्न होने वाली है. भजन कीर्तन में मृदंग और ढोल का उपयोग किया जाता है। प्राचीन भारत में धनिष्ठा को श्राविष्टा। धन्वंतरि का अर्थ है धन से पूर्ण। यह नक्षत्र मकर राशि और मकर राशि को जोड़ने वाला नक्षत्र है, इसलिए मिथुन राशि के लोग मकर राशि और मकर राशि के लोग हैं।

शनि राशि परिवर्तन 2022 (शनि पारगमन 2022)
पंचांग के आँकड़ों 29 अप्रैल 2022 को संबंद्धा। इस दिन मकर राशि से मकर राशि में गोचर। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राशि के स्वामी देव ही हैं। विशेष रूप से संपर्क करने वाला व्यक्ति. इसके ుుుుుు ుు शनिు शनिు शनिు शनिుుుుు तुम्हारी शुद्धता की दृष्टि से. सूर्यास्त के दिन शनि देव की पूजा से शनि देव प्रसन्न होते हैं।

अस्वीकरण: मीडिया जानकारी और जानकारी पर आधारित है। ABPLive.com किसी भी प्रकार की जानकारी, जानकारी की जानकारी रखता है। किसी भी जानकारी या जानकारी से पहले अधिकारी से संपर्क करें।

ज्योतिष: क्रोध ️

बैताल पच्चीसी : बैताल ने पापी कौन? तो विक्रम ने ये उत्तर दिए

शनि देव : 5 फरवरी को ‘सिद्धांत’ योग में शनि देव की पूजा, इन 5 राशियों को विशेष आराम

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button