Panchaang Puraan

shani sade sati and dhaiya upay remedies totke sawan ka mahina – Astrology in Hindi

शनि के दैत्याकार व्यक्ति का जीवन सुखी हो सकता है। शनि के साथ संभोग करने के लिए. इस समय कुंभ राशि, धनु और मकर राशि पर शनि की वैसाती और मिथुन, राशि पर शनि की चाल है। इन राशियों को साल 2022 के अंत तक अपना विशेष ध्यान रखने की ज़रूरत है। सावधान रहना चाहिए…

शनि की देखभाल करने वाले और ढैय्या अपना विशेष ध्यान रखें

  • कुंभ, धनु और मकर राशि पर शनि की सही साती और मिथुन, राशि पर शनि की चाल है। ये राशि वाले शनि के व्यक्ति विशेष ध्यान रखें।

पिछले साल इन राशियों को शनि की ढैय्या से मुक्ति

  • शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करने से पहले शनि ग्रह राशि के जातकों को शनि की मिलन मिलेगी। मिथुन राशि पर 22 बजे 2038 से 29 जनवरी 2041 तक और राशि पर 8 अगस्त 2029 से 31 मई 2032 तक शनि की ढय्या का प्रभाव होगा।

1 अगस्त से ये 4 राशिमान धन वार्षिक आय, धन-धन के प्रबल योग हैं

इस वर्ष इस राशि से शनि की तरह साति

  • शनि की राशि परिवर्तन से धनु राशि से शनि की सहीसाती हस्ती।

सावन मास में ये विशेष उपाय-

  • संपत्ति के वारिस के रूप में दैत्य की संपत्ति से देनदारी से देनदारी प्राप्त होती है। इस समय सावन का पावन चलने वाला है। सावन के भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए शिवलिंग पर जलते हैं। विशेषण से भोलेनाथ की कृपा प्राप्त होती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button