Panchaang Puraan

Shani Rashi Parivartan 2022: Saturn transit is going to happen in Aquarius the first phase of Sade Sati will start on this zodiac – Astrology in Hindi

ज्योतिष शास्त्र में शनि ग्रह का विशेष महत्व है। शनि को सभी तापमान तापमान अधिकतम तापमान पर होता है। शनि राशि से संबंधित राशि में गोचर में शामिल हैं। अगला साल 29 अप्रैल 2022 को कुंभ राशि में गोचर। शनि गोचर के कुछ राशियों पर शनि की बैटरी साती और शनि ढेय्या शुरू होगा।

इस चिन्ह पर चरणों की स्थापना का प्रथम चरण शुरू होगा-

शनि के कुंभ राशि में गोचर ही मीन पर शनि की साती का प्रथम चरण शुरू होगा। ट्विन 29 अप्रैल 2022 को शनि परिवर्तन के साथ ही धनु राशि वालों को शनि साती से मुक्ति मिली। मकर रेखा पर सभी चरण शुरू होते हैं। कुंभ राशि पर चरण चरणों में सात चरणों का प्रारंभ होगा। शनि राशि परिवर्तन के साथ ही वृश्चिक राशि वालों पर शनि ढैय्या शुरू होगा।

12 जुलाई को मकर राशि में प्रवेश-

शनि 12 जुलाई 2022 को मकर राशि में फिर से लगाएं। धनु राशि पर फिर से लगाया गया। मीन राशिफल 17 जनवरी 2023 तक शनि की साती से अधिकारिता मेल। मकर राशि वाले मकर राशि वाले शनि के मकर राशि में गोचर से जोड़ आपके जोड़ पर शनि ढैय्या का प्रभाव होगा।

वाले राशि?

शनि ग्रह दोष

शनि की गणना करने वाले व्यक्ति के साथ ऐसा करने के लिए आवश्यक हैं I किसी भी प्रकार का वाद-विवाद न। वाहन सुरक्षा जांच। गलत गलत और गलत से दूर। सूर्य की स्थिति के प्रभाव भी इस प्रकार के होते हैं।

षटतिला एकादशी कब है? शुभ मुहूर्त, महत्व, विधि व व्रत कथा

शनि उपाय-

हर को विधि-विधान के साथ शनिदेव की पूजा करें। ️ गरीबों️ जरूरतमंद️️️️ किसी व्यक्ति विशेष को आहत न करें। हवा सूर्य को पीपल के हर में दीपक जलाने से शनिदेव के सूर्य होने की है। शनि स्तोत्र का टेक्स्ट लाभप्रद है।

इस तथ्य से पूरी जानकारी मिलती है कि ये पूर्णतया सत्य हैं। क्षेत्र से संबंधित क्षेत्र के जानकारों…

.

Related Articles

Back to top button