Panchaang Puraan

shani jayanti 2021 date and time puja vidhi upay remedies totke dashrath krit shani stotra lyrics and benefits

कुल बिजली का पावन दिन है। परिवार के कामों के संबंध में आपका जन्म हुआ था। शनि को ज्योतिष में और ग्रह ग्रह कहा जाता है। सन की सहीसाती और ढैय्या की अगली व्यक्ति के जीवन में सुखी होना चाहिए। कई समस्याओं शनि के पावन दिन विधि- से वसीयतकर्ता की पूजा-आवास-आश्रय है। ये छोटा सा उपाय करने के लिए आप खुश होंगे। सलाहकार के अनुसार वैज्ञानिक दशरथ ने यह भी पूछा था कि सूर्य को किस प्रकार से चुना गया है। शनि के पावन देवता शनि देव कृपा प्राप्त के लिए दशरथ कृत शनि स्तोत्र का पाठ करें। दशरथ कृत शनि स्तोत्र का पाठ से शनि देव का आर्शीवाद मिलता है।

सूर्य ग्रह 2021: 26 मई 1873 को बिजली के बिजली के तार सूर्य के तार, 148 साल के बच्चे सूर्य और शनि का संयोग है।

  • दशरथ कृताकृत शनि

नम: कृष्णाय नीली शितिकण्ठनिभाय च।
नम: कालाग्निरूपाय कृतान्ताय च वै नम: ।।

नमो निर्मांस शरीर दीर्घश्मश्रुजताय च।
नमो विशालनेत्रेय शुद्रोदर भयाकृते।।

नम: पुष्कलगात्रेय स्थस्थलरोम्नेऽथ वै नम:।
नमो दीर्घाशुष्काय कालदस्त्र नमोस्तुते।।

नमस्ते कोटराक्षाय दुर्निरीक्ष्य वै नम:।
नमो घोर रंध्रराय भीशिक्षाय कपालिने।।

सर्वभक्षाय वलीमुखायनमोऽस्तु नमस्तेते।
सूर्य नमस्कारऽस्तु भास्करे डरदाय च।।

अधोदृष्टे: नमस्तेऽस्तु संवर्तक नमोऽस्तुते।
नमो मन्दगते तुभ्यं निरिस्त्रणाय नमोस्तुते।।

तपस दग्धधर्माय नित्यं योगरताय च।
नमो नित्यं युग्मक अतृप्ताय च वै नम:।।

ज्ञानचक्षुर्नमस्तेऽस्तु कश्यपतमज सूनवे।
तुष्टो ददास वैसी राज्यं रुष्टो हरशिशुक्लत।।

देवासुरमनुष्यश्च सिद्घविद्या धरोरागा:।
त्वया विलोकिता: सर्वे नाशंति समूलत:..

प्रसाद कुरु मे देव वाराहोऽहमुपागत।
और स्तुतस्तद सौरभौराजो महाबल:।।

.

Related Articles

Back to top button