Lifestyle

Sawan Somwar 2021 When Is Third Monday Of Sawan Know Date Tithi And Worship Method

सावन सोमवार 2021 उपवास तिथि: सावन का औसत गतिमान है। सावन के वचन में शिव की विशेष पूजा होती है। यौन शिवलिंग से भी, मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. सावन मास में उसके दिन का विशेष महत्व है. अब तक सावन का पहला सिर पर आने वाला और शनि का अगला सिर आने वाला है।

चातुर्मास में शिव पूजा का महत्व
चातुर्मास गतिमान है। श्रावण यानि सावन का सामान्य चातुर्मास का पहला मास है। मान्यता है कि जब भगवान विष्णु का शयन काल के लिए पाताल प्रस्थान करते हैं तो पृथ्वी की बागड़ोर भगवान शिव को सौंप देते हैं। चातुर्मास के प्रथम मास सावन में शिव, माता पार्वती के साथ धरती के लोग हैं।
सावन सर
पंचांग के लिए यह 09 अगस्त 2021 को है। दिन श्रावण मास की शुक्ल की प्रतिपदा तिथि है। सावन का आखिरी सिरा 16 अगस्त 2021 है।

सावन को ररू काल
सावन में रखू काल का विशेष ध्यान रखना चाहिए। रेयू काल को बारी-बारी से पूरा किया गया। इस योग में पूजा और शुभ कार्य. सोवन के प्रबंधक हैंडल से 09 अगस्त 2021 को पंचांग के हिसाब से समय का समय: 07 बजकर 26 या प्रीत: 09 बजकर 53 तक। दिन अभिजित मुहूर्त प्रात: 11 कर 59 इस सुबह 12 बजकर 53 तक।

पूजा विधि
सावन में शिव की विशेष पूजा का व्यवस्था ठीक हो गया। इस ईश्वर के प्रिय व्यक्ति को चाहिए।

यह भी आगे:
चंद्र ग्रहण 2021: 19 नवंबर को लग रहा है साल का आखिरी चंद्र, कर्क, धनु और कुंभ राशि वाले न हों ये काम, राशिफल

चाणक्य नीति:

सावन शिवरात्रि 2021: सावन शिवरात्रि 06 अगस्त, जानें शिवजी पूजा की शुभ मुहूर्त

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button