Panchaang Puraan

Sawan Shivratri 2021: Why Sawan Shivratri is special know date Shiv Gauri Puja Muhurat and Vrat Paran Timing – Astrology in Hindi

जून को अंत्यत प्रिय सावन या श्रावण मास की शुरुआत 25 जुलाई, जून से शुरू होने वाला हो रहा है। सावन का हर इंसान शिव को सेवा है। इस संबंध में शंकर शंकर और माता पार्वती की विधि-विधान से व्यवस्था है। मंगला गौरी की पूजा का नियम है। सा सावन मास की शिवरात्रि का विशेष महत्व है। सा शिवरात्रि के दिन व्रत से शंकर शंकर के साथ माता गौरी का भी आशीर्वाद प्राप्त होता है।

सावन शिवरात्रि महत्व-

सावन की शिवात्रि का व्रत और इस पवित्र व्यक्ति शिव की आराधना से अर्चक को शांति, रक्षक, और आरोग्य की कीट है। पाप कि सावन की शिवरात्रि के सभी पाप खराब कर रहे हैं। सावन की शिवरात्रि का व्रत से कुवारें लोगों को मनचाहा है। ट्विट, दंपति जीवन में प्रेम की प्रगाढ़ता बढ़ती है।

इस दिन शुरू हो रहा है सावन, शिव को खुश करने के लिए…

कबामेई सावन शिवरात्रि-

तारीख़ नियत होने की तिथि से. हिन्दू पंचांग के अनुसार, सावन मास की चतुर्दशी तिथि तिथि 06 अगस्त, दिन को 06 बजकर 28 पर हो रहा है। कि 07 अगस्त, दिन की सुबह 07 बजकर 11 बजे तक। साल सावन शिवरात्रि 6 अगस्त को।

45 दिन इन राशियों के लिए शुभ, मंगल देव की बैठक की दृष्टि

सावन शिवरात्रि 2021 शुभ मुहूर्त-

सावन शिवत्री निशिता कालरा पूजा का समय 12 बजकर 06 बजे ठीक 12 बजकर 48 मिनट तक। इस साल सावन शिवरात्रि पूजा का कुल समय 43 है।

सावन शिवरात्रि 2021 व्रत पारण का समय-

6 अगस्त को शिवरात्रि का व्रत, पारण 7 अगस्त को। पारण का शुभ 07 अगस्त को 05 बजकर 46 मिनट सुबह 03 बजकर 47 बजे तक।

.

Related Articles

Back to top button