Panchaang Puraan

sawan shivratri 2021 date time wishes quotes grettings messages facebook whatsapp twitter status images of bholenath – Astrology in Hindi

सावन शिवरात्रि 2021: सावन शिवरात्रि को सावन शिवरात्रि कहा जाता है। सावन शिवरात्रि का विशेष महत्व है. हर महीने कृष्ण के त्रयोदशी तिथि को तिथि निश्चित होने के बाद शुभरात्रि का पर्व समारोह शुरू होता है। इस दिन व्यवस्था-व्यवस्था से इस शंकर की पूजा-अर्चना की जाती है। सावन शिवरात्रि के शुक शंकर और माता पार्वती की पूजा-आरांचल से मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। ️ सा️ सा️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ ️

मंदिर की पटल, आरती की पटल
नदी के सूरज की लाली,
दीर्घायु खुशियों की बहार,
मुबारक हो, ‘सावन शिवरात्रि का त्योहार’

सूर्य और बुध की युति गुण इन राशियों का भाग्य, मान- सम्मान और पद- प्रतिष्ठा में वृद्धि

भक्ति में शक्ति बंधु
शक्ति में संसार है,
त्रिलोक में आयोजन होता है
अण शिव जी का ये पावन पर्व है
सावन मास की शिवरात्रि

हैलैट में डमरू
और काल नाग है
है लीला अपार
वो हैं भोले नाथ

सावन मास की शिवरात्रि

शिव की स्त्री पर छाया,
पलट दे जो भाग्यशाली काया,
जीवन जीने के लिए,
जो भी कोई भी ना पैर।

सावन मास की शिवरात्रि

इन्सटर्न्स की संख्या में प्रवेश करने वालों को इन्सर्ट्स की विशेषताएँ मिलती हैं, चंद्रदेव की विशेषताएँ इस प्रकार से लागू होती हैं

सावन शिवरात्रि पर बरसे भोले की कृपा
माता पार्वती
सावन के इस पावन दिन
शिव की सेवा।

सावन मास की शिवरात्रि

मन रणनीति की चिंता
का नाम, शिव ऊँ: नम: शिव जा
शिव ही मेघेबेड़ा पार, टी अपना दर्ज़ जा।

सावन मास की शिवरात्रि

.

Related Articles

Back to top button