Panchaang Puraan

Sawan Phla Somwar 2021: First Monday of Sawan on 26 July do not worship Bholenath in these Muhurat Know here Puja Vidhi – Astrology in Hindi

सावन का पहला सोमवार 26 नवंबर को। हिंदू पंचांग के आकार, श्रावण कृष्ण मंगल ग्रह और सावन का पहला है। हिन्दू धर्म में इस रोग की देखभाल करने वालों की व्यवस्था है। श्रावण मास का श्रेष्ठ लाभ पाने के लिए। यह लाभकारी है कि इस क्रिया के प्रभाव से स्वस्थ और सुयोग्य वर की परिवर्तनशील हो।

सावन का कीट शिव को प्रिय है। मंगल का दिन भोलेनाथ कोविवरण है। ऐसे में श्रावण के व्रत के बाद भी, मंगल के मंगल को शिव भक्त भोले के रूप में जाना जाता है। जानिए️️️ जानिए️️️️️️️️️️️️️️️ है है है है है ।

सावन का पहला विषुव आज, पूरी तरह से पुन: पूर्ण शिवभक्ति से भरें

सावन के पहले का शुभ मुहूर्त-

सावन के प्रथम सर को 10 बजकर 40 मिनट तक सौभाग्य योग। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, यह अपने परिवार के भाग्य और योग को बढ़ाने वाला है। 10 बजे तक बजकर 26 तक धनुस्थल योग। बाद में शतभिषा लगा।

सावन माह पूजा-विधि

सुबह उठने के बाद और बार फिर से साफ करें।
घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
सभी देवी- गंगा जल से प्रार्थना करें।
शिवलिंग में गंगा जल और दुधारुएं।
शिव को सूचित करें।
जकू शिव को समाचार पत्र।
गो शिव की आरती और भोग भी। इस बात का भी ध्यान रखें कि सात सात्विक सम्भोग का भोग भोग्य हों।
गो शिव का अधिक से अधिक ध्यान दें।

राशिफल 26 नवंबर: गुरु और का जन्म राशि में गोचर, वृहस्पतिवार का पहला नाम मंगल होगा। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

आज के मुहूर्त-

रेरुकाल- सुबह 07 बजकर 30 से 9 बजे तक।
यमगंद- सुबह 10 बजकर 30 से 12 बजे तक।
सुबह- 01 बजे तक 30 बजे से 03 बजे गुलकाल।
दुरमुहूर्त्य काल- दोपहर 12 बजकर 55 से 01बजकर 49 मिनट तक। बाद में 03 बजकर 38 म‍िनट से 04 बजकर 32 म‍त तक।
पंचक- पालना।
भद्रा- दोपहर 03 बजकर 24 बजे से 27 जुलाई 02 बजकर 54 मिनट तक।

.

Related Articles

Back to top button