Panchaang Puraan

sawan 2021 puja vidhi importabce date time rules and regulations what to do in sawan month shiv ji puja vidhi – Astrology in Hindi – Sawan 2021 : आज से शुरू हो गया है सावन, नोट कर लें पूजा

सावन 2021 : आज से 25 नवंबर तक सावन के पावन की शुरुआत हो सकती है। हिंद पंचांग का हिसाब 25 जुलाई से 22 अगस्त तक सावन का महीना। हिन्दू धर्म में अधिक महत्व है। सावन का मांस भोलेनाथ को समर्पण है। इस कानून में- व्यवस्था से भिनाथ की पूजा- भक्त है। भोलेनाथ की कृपा से व्यक्ति को दुख-दर्द से राहत मिलती है। आइए भगवान

सावन माह पूजा-विधि

  • सुबह उठने के बाद और बार फिर से साफ करें।
  • घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • सभी देवी- गंगा जल से प्रार्थना करें।
  • शिवलिंग में गंगा जल और दुधारुएं।
  • शिव को सूचित करें।
  • जकू शिव को समाचार पत्र।
  • गो शिव की आरती और भोग भी। इस बात का भी ध्यान रखें कि सात सात्विक सम्भोग का भोग भोग्य हों।
  • गो शिव का अधिक से अधिक ध्यान दें।

अंकज्योतिष भविष्यवाणी (25-31 जुलाई): इन तारीखों में जन्मे लोगों का प्रचार हो सकता है।

सावन जानने के नियम

  • सावन में सूक्ष्म पोषक तत्व होना चाहिए। इस खाना में भी खाना नहीं था।
  • सावन के अंदर मांस-भंग होना चाहिए।
  • अधिक से अधिक सुश्रुत शंकर की अराधना कर रहे थे।
  • ब्रह्मचर्य का पालन करना भी आवश्यक था।
  • सावन के व्रत में यह अधिक महत्व रखता है।
  • आगे चल रहे हों तो हनुमान जी का व्रत करें।

शिव की पूजा में उपयोग होने वाली सामग्री-

पंचम फल मेवा, रत्न, बलि, दक्षिण, जल के पंच, कु शासन, दही, शुद्ध मौली, गंगा, पवित्र, पंच रस, जन, गंध रोली, बिलाव , धरा, भांग, बेर, मंजरी, चाव बालें, तुलसी दल, मंदार पुष्प, गौ का दूध, ईख का रस, कपूर, धूप, दीप, रुई, मलयाबरी, चंदन, शिव व माता पार्वती की उत्पाद की सामग्री आदि। ।

सावन शिवरात्रि 2021: सावन शिवरात्रि में विशेष, शिव-गौरी पूजा मुहूर्त और व्रत पारण का समय

सावन मंगल सूची

  • पहला- 26 नवंबर
  • १२ मंगलवार- ०२ अगस्त
  • मंगल- 09 अगस्त
  • सूर्य मंगल- 16 अगस्त

.

Related Articles

Back to top button