Panchaang Puraan

sawan 2021 pehla shanivar shani sade sati and dhaiya upay remedies bholenath totke lingathkam lyrics – Astrology in Hindi

हिन्दू धर्म में सावन का अधिक महत्व है। सावन का पावन मंथ भोलेनाथ को समर्पण है। इस कानून में- व्यवस्था से भिनाथ की पूजा- भक्त है। भोलेनाथ की कृपा से पूरी तरह से दैनिक जीवन भर आनंद प्राप्त होता है। इस मकर, कुंभ, धनु, मिथुन राशि के जातकों पर शनि का प्रभाव है। मकर राशि, धनु राशि पर सूर्य की दिशा में चलने वाली चाल और मिठाइयाँ, तुला राशि पर शनि की लैय्या चलने वाली हैं। सन की सहीसाती और ढैय्या की अगली व्यक्ति के जीवन में सुखी होना चाहिए। भोनाथ की पूजा- क्रियात्मक सफलता का दिन शनिदेव को सफलता है। व्यवस्था-व्यवस्था से शनिदेव की स्थिति खराब है।

इस योजना में शामिल होने के लिए 210

सावन के पहले सप्ताह में ये उपाय-

  • सावन के संबंध में हर किसी को पानी में रखना चाहिए. नवंबर के दिन भी शिवलिंग और भोलेनाथ से संबंधित.

भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए ये पाठ-

  • लिंगाष्टकम स्तोत्र

ब्रह्ममुराक्रिसरार्चीलीङ्गं निर्मलभासितशोभितलिङ्गम् ।
जदुःखविनास्कल्गं ताम प्रणाम सदाशिवलिङ्गम् ॥1॥

देवमुनिप्रवरार्चीलीङ्गं कामदहं करुणाकरलिङ्गम् ।
रंकदर्पविनाशनलिङ्गं तत् प्रमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥2॥

सर्वसुगन्धिसुलेपितलीङ्गं बुद्धि विवर्धनकारणलिङ्गम् ।
सिद्धसुरसुरवन्दिल्गं तत् प्रमामि सदाशिवलिङ्गम् 3॥

कनकमहामणिभूषितलिङ्गं फणिपतिवेष्टितशोभितलिङ्गम् ।
दक्षसुयज्ञविनाशनलिङ्गं तत् प्रमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥4॥

इन 4 राशि वाले झूठा कर भी न दें, पंगा दुबला महंगा है

कुङकुमचन्दनलेपितलीङ्गं पंकजहार सुशोभितलिङ्गम् ।
सञ्चितपापविनाशनलिङ्गं तत् प्रणाम सदाशिवलिङ्गम् ॥5॥

देवगणार्चितसेवितलिङ्गं भावैर्भक्तिभिरेव च लि्गम्।
दिनकरकोटि प्रभाकरलिङ्गं तत् प्रमामि सदाशिवलिङ्गम् 6॥

अष्टदलोपरिवेष्टलिङ्गं सर्वसमुद्भवकरणलिङ्गम् ।
अष्टद्रिद्रविनाशितलिङ्गं तत् प्रमना सदाशिवलिङ्गम् ॥7॥

सुरगुरुसुरवरपूजितलिङ्गं सुरवनपुष्पासार्चितलिङ्गम् ।
परत्परं परमपवित्रिङ्गं तत् प्रमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥8॥

लि्गाष्टकमिदं पुण्यं यः पठेत शिवसन्निधौ।
शिवलोकमवापनोति शिवेन सह मोदते॥

लिंगाष्टकम स्तोत्र के पाठ से शंकर की विशेष कृपा प्राप्त होती है। शंकण शंकर की कृपा से शयन से शाम तक वितरण होता है। मकर, कुंभ, धनु, मिथुन राशि वालों पर इस समय शनि की आंखे नजर है। ये राशि चिन्ह सावन के इतिहास में भोलेनाथ का अधिक से अधिक ध्यान दें।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button