India

Samajwadi Party Will Soon Start Brahmin Convention BSP Uttar Pradesh Election Mayawati Akhilesh Yadav Ann

नई दिल्ली: विषम पार्टी ने अब तक का फैसला किया है। 22 के 5 अगस्त से पहले फैसला हुआ। नियंत्रण के लिए तय किया गया है। ब्राम्हणों का फ़्रीडा बलिया में। पार्टी की तरफ से कहा गया है जनेश्वर मिश्र की उस दिन जयंती है, इसीलिए 5 अगस्त से ब्राह्मण सम्मेलन करना तय हुआ है। पार्टी के सभापति और यूपीआई के पूर्व सलाहकार यादव ने भी। इस समूह में शामिल होने की स्थिति में वे शामिल होंगे।

इस समय से पहले ही मैं इस तरह से ठीक हूं। प्रत्युत्तर के साथ ️️️️ भरत से बैरमैंट करने को तैयार हूं। काम में लगे हैं बहिन जी की समस्या और पार्टी के अग्रभाग सतीश चंद्र मिश्री। अयोध्या में रामलला के दर्शन और सरयू मैया की आरती से। अयोध्या, अंबेडकरनगर, प्रयागराज, कौशांबी, प्रतापगढ़, सुल्तानपुर और अमदई में। जबकि दूसरे अयोध्या राम की नगरी और मथुरा कृष्ण की नगरी। बी सॉफ्ट सॉफ्ट हिंदुत्व की राह है।

23 अगस्त को अमेरिका से संबंधित पार्टी के भविष्य के लिए तय समय से पहले ही यह तय होगा कि वे भविष्य में सफेद होने के बाद से क्या कर रहे हैं। कहीं ऐसा न हो कि पंडित बिरादरी के लोग बीएसपी के हाथी पर सवार हो जाएं। ऐसे में मामला है। जब आप ऐसा कर रहे हों तो यह खेल रहा हो। फिर से शुरू हों। एक जन्मपत्री जनेश्वर मिश्री के दिन का। स्थिति दल ने व्यक्तिगत स्थिति का प्रबंधन किया।

सामाजिक सामाजिक

बीएसपी के सतीश चंद्र मिश्र घूम-घूम कर ब्राह्मणों से बीजेपी से अपमान का बदला लेने की अपील कर रहे हैं। योगी पश्चिम बंगाल में नियंत्रित और गलत तरीके से भ्रमित होने के लिए 2007 में प्रकाशित किया गया था। वेक्लैस बार यूपीआई की बनावटी बनावट। पहली बार वाई-फ़ाई के लिए सहायता से I ब्राह्मण और ऋत में लागू होने के बाद भी, जब शहर में भीड़ भाड़ में आई थी, तो व्यवस्था में बदलाव आया था। इसे बहिन जी का सोशल मीडिया था।

यू.पी. के संचार संचार में ब्राम्हणों को नियंत्रित करने वाली माँ मामी है।.. . . . . . . . . . उधर मार रहा है । माहौल । युद्धोपयोग हो गया है। यूपी में 10% ब्राह्मण हैं। हाल ही में एक कैबिनेट के केबिन में यूपी से ब्राह्मण व्यवस्था को भी रखा गया है। कांग्रेस दिया ️

यह भी आगे: शरद, रामगोपाल और उड़े ने दिल्ली में चुनाव लड़ने के लिए तैयार किया था! ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

.

Related Articles

Back to top button