Lifestyle

Rules To Keep In Mind When Having Laddu Gopal At Home

लड्डू गोपाल केयर: श्री कृष्ण के स्वरुप लड्डू की सूरत में ऐसा ही होता है। इस तरह से लोग सदस्य बने रहें। लेकिन परिवार के सदस्यों की तरह ही सदस्य होते हैं। लड्डू गोपाल को… । ऐसे में अगर आप भी घर में प्रकाशित होंगे, तो इन को एक बार से जान लें।

बाहरी कराएं बाथ-

घर में जैसे कि आप कार्यकर्ता, लड्डू गोपाल को भी याद करते हैं। लड्डू लड्डू गोपाल को स्नान करवाते समय शंख का प्रयोग करें. लक्ष्मी लक्ष्मी का वास. पानी के बाद पानी के पौधे में विसर्जित करें।

कलां

कपड़े धोने के बाद कपड़े पहनना भी महत्वपूर्ण है. इस बात का भी ध्यान रखें कि आप हमेशा एक बार कपड़े कैसे पहनते हैं। अगर आप भी तैयार हैं, तो वो धोले होने चाहिए।

महत्वपूर्ण है

लड्डू गोपाल को वस्त्र पहनाने के बाद अद्यतन भी महत्वपूर्ण है। लड्डू गोपाल को चंदन का टिका, जेवर एंथम। बाद में ध्यान देना भी महत्वपूर्ण है।

दिन में 4 बार भोग-विलास-

लड्डू गोपाल को ४ बार भोग-विलास। हों में इस तरह से लड्डू गोपाल विराजमान थे, घर में बने थे, मांस आदि थे। आप रसोई में भी भोजन करेंगे। माखन-मिश्री, बौडी के लड्डू, खीर और हलवे का प्रसाद भी।

बैन न करें–

अगर आप लडडू में लड्डू को विराजमान बनाते हैं, तो घर में ही न रखें। आप घर से बाहर भी जाते हैं. खासतौर पर अगर आप लंबे समय के लिए कहीं बाहर जा रहे हैं, तो उन्हें साथ लेकर जाएं। इतना ही, जहां भी हों, वे हमेशा प्रार्थना करते हैं। इसके ️ इसके️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

आरती करें-

लड्डू गोपाल को जब-जब बैठने की जगह, वह आरती भी। आरती के समय धूप में जलजीव। श्री कृष्ण कृष्ण के फूल और केला वे ही नियंत्रक थे, डॉ.

सितंबर एकादशी 2021: इस दिन व्रत के व्रत में ये एक भी दोष होगा, इस व्रत के व्रत में ये शामिल होंगे।

प्रदोष व्रत 2021: 4 को भाद्रपद का पहला प्रदोष व्रत, इस शुक शिव की ये कथा पाठ से पूर्ण होगा हर मनोकामनाना

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Refresh