Panchaang Puraan

Rashi Parivartan 2022: mangal shukra gochar in Sagittarius someone will get money some get property sun transit horoscope rashifal – Astrology in Hindi

मंगल पौष शुक्ल ग्रह ग्रह तिथि 15, 16 मंगल 2022 दिन, मंगल ग्रह की रात 12:55 बजे से देवगुरूबरु की राशि धनु में जमा होता है– फाल्गुन कृष्ण मंगल नवमी 25 फरवरी शुक्रवार को शाम 6 बजे 45 बजे तक। मंगल में मंगल को सेनापति का पद प्राप्त है। मंगल को भूमि, वाहन, वाहन, सेना,सेन, पुलिस बल, आग, बल, पौरुष और ऊर्जा का कारक ग्रह होगा। इस तरह के चरित्र परिवर्तन का प्रभाव क्रिया व्यवहार में होता है। मंगल ग्रह का राशि परिवर्तन:

राशिफल : 9 सूर्य की तरह प्रदर्शित इन राशियों का भाग्य, मीन से मीन राशि तक का हाल

मीन :- अष्टमेश नवम भाव में।
*मनोबल,धार्मिकता और नियति में वृद्धि
*परक्रम और नेतृत्व क्षमता
* भाई बहन की सहायता सानिध्य
*अचानक व्यवसायी या व्यापार के संयोग
*घर और वाहन सुख और खर्च में वृद्धि
*जमीन जायदाद से हानिकारक कार्य
उपाय: – रत्न रत्न धारण करना।

29 साल बाद बन बनाएं सूर्य- शनि की युति, मीन से मीन मीन तक की पहचान, ज्योतिषाचार्य से अपनी राशि का हाल

वृष :- सप्तमेश-विस्पोजेश, अष्टम भाव में।
* अच्छी स्वास्थ्य प्रगति
*अचानक रुका धन का योग
*पारिवार कार्य पर खर्च, घर मे नया कार्य
*भाई बंधो पर भी खर्च की स्थिति
*साझेदारी, प्रेम प्रेत को तनाव
*जीवन साथी के स्वास्थ्य पर खर्च या चिन्ता
उपाय :- श्रीमान् जी महाराज का दर्शन जानकारियाँ।

मिठाइयाँ :- आयश-रोगेश सप्तम भाव में।
*नियत से अर्थव्यवस्था की स्थिति
*क्रोधन में गहनता नियंत्रण
*परिश्रम और सम्मान
*भविष्य कार्य गहनता ,घर मे नया
*दम्पत्य जीवन को शांत करना
*स्वास्थ्य और मनोमय स्तर पर चिंता
लाल मसूर की दाल उपाय:

कर्क :- राज्य-पंचमेश षष्ट भाव में।
*भाग्य का साथ प्राप्त करें।
*पढ़ाई और सम्मान पर ध्यान केंद्रित करना
*संतान पादपों से मिलकर चिंता
*प्रतियोगिता में विजय की स्थिति
*परिश्रम और परीक्षा को गुणा करें प्रयास
*क्रोध पर नियंत्रण और गलत तरीके से
उपाय: – जन्मांडु मूल रूप से कॉर्टिंग करें।

सिंह :- भाग्येश-सुखेम पंचम भाव में।
*आय लाभ में वृद्धि की संभावना है
*व्यापारिक कटि पर खर्च के भी योग बनेंगे
*स्वास्थ्य खराब पाचन।
*संतान और पिता की सहायता, सानिध्य में वृद्धि।
*घर और वाहन के साथ घर की सुख-सुविधाओं में वृद्धि
*अधिष्ठापन के आधार पर मान की स्थिती
उपाय: – जन्मांडु मूल रूप से कॉर्टिंग करें।

कन्या :- अष्टमेश-परक्रमेश
*आय और गुणा वृद्धि के संयोग से।
*क्रोध में अधिकता नियंत्रण।
*जमीन जायदाद,संपत्ति को तनाव
*माता के स्वस्थ रहने की स्थिति
*जीवनसाथी और प्रेम को लेकर चिंता
*परिश्रम में और सम्मान में रुकना
:- श्रीमान् जी जी महाराज उपाय को सिंदूर मंगलवार को।

तू :- सप्तमेश-धनेश परक्रम भाव।
*परक्रम और सम्मान में वृद्धि
*प्रतियोगिता में विजय, रोग और स्वास्थ्य लाभ
*पिता और भाग्य का साथ मिलेगा
*दम्पत्य जीवन और प्रेम संबंध के लिए समय ठीक
*नियत योजना शीघ्र धन लाभ की स्थिति
*अचानक क्रोध में वृद्धि होती है।
उपाय :- श्री हनुमान जी का दर्शन।

वृश्चिक:- रोग भाव में।
*धन और धनगम की वृद्धि
*संतुलन की स्थिति
*तालीख, आगे और शिक्षा के लिए ठीक है
*असफलता में परिणाम प्राप्त करें
*खान पान पर ध्यान दें प्रतिबिम्ब।
*मनोबल उत्तम और घरेलू कार्य वृद्धि
उपाय:- भोलेनाथ का दर्शनशास्त्र।

धनु :- पंचमेश-विस्फोट भोजन भाव में।
*संसंबंध से मिल रहा है।
*अचा कार्य में वृद्धि रुकने से
*जमीन,जायदाद,अचल संपत्ति को चिन्ता
*दाम्पत्य जीवन और प्रेम संबंध में तनाव या तनाव
*स्वास्थ्य खराब होने की समस्या से लागत
*रोजगार,साझेदारी और माता की सेहत से चिंता
:- श्रीमान् जी महाराज को सिंदूर ने मंगलवार को कोये।

मकर:-चौथेरीश- स्वाद स्वाद में।
*घर, वाहन घर के काम पर खर्च
*व्यापारिक और अन्य संभावित संभावित
*क्रोध, परक्रम और सम्मान में वृद्धि
*भाई ,बंधु और मित्रों के समर्थन सानिध्य में वृद्धि
*प्रतियोगिता में विजय,पुराने रोग और शत्रु से मुक्ति
*क्रोध के जीवन के साथ और प्रेम संबंध में तनाव
उपाय:- आपात स्थिति के दिन शिवलिंग पर रोग।

कुम्भ :- परक्रमेश- राज्य भाषा में भवन।
*आय और आय में वृद्धि
*ताल, अध्यापन से लोगों को लाभ होगा
* बॉलीवुड
*बीमारी, ऋण, शत्रुओं पर और प्रतिद्वंद्विता में विजय
*पैतृक संपत्ति से संबंधित दूरदृष्टि
*व्यापारिक कटिबंध, परक्रम, सम्मान में वृद्धि
उपाय :- श्री हनुमान जी का दर्शन।

मीन: – धनेश- भाग्येश राज्य भाव में।
*राज्य से लाभ, सम्मान में वृद्धि
*कार्यो में प्रगति में वृद्धि
*घर और घर के घर में सुख-समृद्धि,
*क्रोध में वृद्धि, भाग्य का साथ प्राप्त होगा
*ताल, अध्यात्म से लोगों को नुकसान होगा
*संतान और विस्तार से मिलन
: – मसूड़े की भविष्यवाणी के आधार पर गणना करें।

.

Related Articles

Back to top button