Lifestyle

Ramayan : सिर्फ भाई ही नहीं, बहन-बेटियों से भरापूरा था श्री राम का परिवार

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">रामायण की कहानी हिंदी में: मरेड़ा पुरुषोत्तम श्रीराम आज्ञाकारी ही अद्भुत भातृप्रेम के लिए वंदनीय हैं। परिवार परिवार. श्रीराम का परिवार, जिनमें हों"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">बटाया गया है कि दशरथ के अलाइनाइन भी बाहरी हैं। जीन श्रीराम की दो बहिनें शांता और कुक्बी आवास। विस्तृत विवरण में विस्तृत विवरण दिए गए हैं। यह राम से बड़ी कीटाणु। बागे रखने वाले माता-पिता की उम्र बढ़ने के बाद उसकी देखभाल की जाती है। बहिन शान्त का विवाह महर्षि विभाण्डक के ऋंग ऋषि से हुआ। परिवार के हीरा महाराज दशरथ के लिए उपयुक्त परिवार के साथ, बाद में राम, लक्ष्मण, भारत और शत्रुघ्न समानार्थी।

इनकेलाइन दशरथ की पत्नी सुमित्रा के लक्ष्मण-शत्रुघ्न, कैकेयी के कलौते श्रेष्ठ भरत। सीता से शादी के बाद प्यार और कुश। जनक जनक के पुत्र कुशध्वज की उर्मिला से संपत्ति, सोमदा नाम की महिला सदस्य। लक्ष्मण की उर्मिला के अलाइन जितपद्मा, वनमाला नाम दो और पता लगाने वाले खेल की। भाई भरत का भी जनक के छोटे भाई कुशध्वज की बेटी मांडवी से थी। भरत के दो पुत्र तक्ष और पुष्कल। पत्नी शत्रुध्न की पत्नी श्रुतिकीर्ति थी और यह मांडवी की सगी बहिन खेल। बाद में श्रुतिर्ति के साथ रहने के बाद शत्रु के दो सुबाहु और शत्रु शत्रु बने।

इन भी आगे पढ़ें: 
गायत्री जयंती: गायत्री जुबली एवं निजला एकादशी व्रत आज, पूजा का हिंदी मुहूर्त, विधि और महत्व
निर्जला एकादशी: आज निर्जला एकादशी को इस मुहूर्त में झूठा भी न करें, जानें क्या कु प्रभाव

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button