Panchaang Puraan

Raksha Bandhan 2022: Bhadra Dosh prevails in Vyapini Purnima on 11th August know subh muhurat for rakhi – Astrology in Hindi

भाई-बहन के स्नेह का प्रतीक चिन्ह विरंजन भद्रा अवरन्विपिनी पौंर्ण सुरक्षा में है। इस वर्ष इस वर्ष पर्यावरण को संरक्षित रखा गया है। विज्ञानी गणना में उपयुक्त है। हालांकि 15 अगस्त को शाम 8:53 बजे के बाद संरक्षक का विशेष शुभुर्त है।

बालाजी ज्योतिष के पं. प्रेप शर्मा का कहना है कि सुबह की स्थिति खराब होने की स्थिति के अपार्ण काल ​​में भद्रा हो तो सुबह की स्थिति खराब होने की तारीख त्रिमुहूर्त-विपिनी हो तो सुबह खराब होने की स्थिति के अपराहन काल में रक्षा करना। यदि आगामी दिन पूर्णिमा त्रिमुहूर्त व्यपिनी न हो तो पहले दिन भद्रा समाप्त होने पर प्रदोष काल में रक्षा सूत्र बांधने का विधान है।

12 अगस्त को गणपति गणित

11 अगस्त को विपिनी पूर्णिमा में भद्रादोष स्थिति

इस वर्ष 11 अगस्त को अपर्णा विपिनी पूर्णिमा में भद्रादोष स्थिति है। 12 अगस्त को पूर्णिमा प्रात: 07:06 बजे तक ही। यह पूर्णिमा त्रिमुहूर्त विपिनी है। पूर्णिमा 07:06 बजे समाप्त हो रहे हैं। इस तरह से गणना की गई 11 को प्रदो काल में भद्रा काल में रात 8:53 बजे के बाद काल रक्षा के लिए संकट के समय। यह शुभ मुहूर्त 09:42 बजे तक।

इस रक्षक भाई की राशि के लिए चुनी गई राशि का रंग, जानें शुभ मुहूर्त

पौधरोपण के साथ साफ-सुथरी श्रावणी पूर्णिमा: पर्व पर पौधरोपण भी। विशेष फल प्राप्त करें। पेड़ के चिह्न हैं। वृक्षों से बना है। प्रदूषण निवारण है। पौधरोपण जैसा कार्य व वृक्षपूजन इस विशेष विशेषता है।

Related Articles

Back to top button