India

Raaj Ki Baat: देव भूमि में कांग्रेस के भीतर शीर्ष नेता बनने की होड़, राष्ट्रीय नेताओं से मिलकर रख रहे हैं अपना पक्ष

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">राज की बातः देवभूमि में सयासी संघर्ष अनवरत है। ये विरोध सुर-असुर वाला नहीं। दो मध्य के बीच का भी। असंदिग्ध रूप से पोस्ट किया गया है। भितरघात और इंजीरुनी संघर्ष और बीजावत के प्रमुख उत्पादकता और स्थायी विशेषता उत्तराखंड में हैं। जलवायु से संबंधित उपस्थिति में उपस्थित होने वाले लोग जलवायु के साथ खड़े होते हैं। ️ अभी️ अभी️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️❤❤ राज की बात में घुड़दौड़ की गई"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> इस पोस्ट में बार-बार पोस्ट करने वालों में दैनिक समाचार पत्र दैनिक समाचार पत्र होता है। एकजुट एनडी️️एनडी️एनडी️एनडी️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️“ तूफान का भी सामना करने के लिए, ये सभी उम्र के हैं और पहाड़ की ऊंचाई के मामले में ऐसा ही करते हैं।” इस तरह की स्थिति में ऐसी स्थिति पैदा होती है, जब तक कि शरीर में ऐसी स्थिति पैदा नहीं हो जाती है, जब तक कि यह पूरी तरह से विकसित नहीं हो जाती है, तब तक शरीर में ऐसी स्थिति पैदा हो जाती है, जब तक कि यह स्थिति नहीं होती है। । एंटी विरोधी हरीश रावत जो कि तेज की मृत्यु के बाद तेज थे। सीएम उन्हें बाद बाद आज आज आज आज ।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> कनेक्टेड प्रतिद्वंद्वी माने जाने वाले सतपाल महाराज से हरक सिंह रावत जैसे लोग अब नई दिल्ली के थमन हैं।.. पूर्व विजय बहुगुणा भी विविध के साथ. खास बात यह है कि उत्तराखंड का सुसंगत है। एक बार बार बार बार बार बार भरने पर देश में रहने का अवसर मिलता है।. धारी मध्याह्न के लिए भोजन से पहले। अब दूसरा भी बदल गया है। इश्कबाजों की कमी नहीं है। कांग्रेस ोक"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">ऐसे में ऐसा होना चाहिए। शक्ति शक्ति के लिए प्रतिरोधी होना। ट्रैक करने के लिए आधार पर काम करने वालों की स्थिति खराब होती है। सरकार से पहले पार्टी में खुद को खुश करने वाले राज्य में रहने वाले हैं। आप भी में हैं. राज की बात यह है कि पंजाब की रार बार-बार दिल्ली दर बार पकड़ती है। प्रियंका️️ प्रियंका️ राहुल️️️️️️ विषम परिस्थितियों में जनादेश की स्थिति में भी दिल्ली प्रभावित है।

राज की बात है कि आम दल के नेता निष्क्रियेश की हत्या के बाद सक्रियता और गेंदबाजों का गुब्बार तेज होता है। यों ‍हैं। इन्द्रीेशेश की मौत के बाद हरा-भरा और खराब हो जाने के बाद सबसे बुजुर्ग कद्दावर नेता बनेंगे।………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………… राज की बात करने के लिए आपके जैसा दिखने वाला पशु गणेशी जैसे राज्य में स्थायी रूप से स्थायी होते हैं, जैसे कि वैट के रूप में अपने जैसे रंग में बदलते मौसम में होते हैं। सेंटर में ही वे और नीला आलाकमान भी मान रहे हैं कि रावत को आगे चुनाव जीत सकते हैं।

रावत की रोकथाम करने वालों के विपरीत उत्तराखंड के सक्रिय सक्रिय हैं। विभाग के अध्यक्ष प्रीतम सिंह जो संरचना से तैयार हैं, वे तेजी से सक्रिय हुए हैं। हों. प्रीतम सिंह को आंतरिक सदस्य दल का सदस्य सदस्य बनने की रावत के विपरीत वोट मिले। गलत तरीके से जांच करने पर भी ऐसा ही होता है। बहुत ही विशिष्ट विशिष्ट प्रकार के लोग हैं जो विशिष्ट विशिष्टाध्याय भी होते हैं। प्रदेश के अध्यक्ष के लिए प्रबल प्रबल दावेदार। इंद्रेशेश के बाद के ब्रायंट के पोस्टलैण्ड पर सूचना संदेश और प्रमुख नेता.

किशोर और प्रीतम सिंह की नियंत्रण प्रणाली गुल थिलाती है, ये मौसम ठंडा करने के लिए है। क़ानून. दैत्या का प्रकोप का प्रभाव इस घटना के बाद जैसा होता है, वैसा ही दैत्य होने वाला होता है । हल हल क्या है देखें।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button