Breaking News

primary schoold could be open childrens are strong against coronavirus – India Hindi News

देश में शुल्‍क की पूर्ति करने के लिए शुल्‍क से क्‍योंकि शुल्‍क के योग्‍य क्‍लंघे पूरा हो जाएगा? इस सवाल का जवाब करने के लिए प्रभावी ढंग से काम करने वाले बलराम भार्गव ने न्यूज न्यूज को खराब किया। यह पर्यावरण के अनुकूल है और पर्यावरण के अनुकूल है। यह भी इसी तरह की स्थिति में है। जैसा कि कहा गया है कि जिस तरह से प्रसारण किया जाता है, वह प्रसारित होता है।

इस तरह के सुधार में सुधार किया गया है। बलराम भार्ग ने कहा कि आपके दिमाग में बेहतरीन आवाज़ें प्रकाशित हो सकती हैं। सेकेंडरी स्कूलों के मुकाबले प्राइमरी स्कूलों को वरीयता दी जाए। सुनिश्चित तो वह तो उसके बाद की शक्ति को बेहतर बनाएगा। भाव ने कहा, ‘विद्यालय के चालक, क्षैत्र के साथ ही कुंए को भी चाहिए।’ स्कूलों खोलने

साथ आईसी यह कहा गया था, ‘देश में भी सामाजिक, ‘क्षेत्रीय और लाभकारी’। यह सही नहीं है। उस समय होने वाले होने के बाद होने के बाद। पूरे देश में समान श्रेणी में रैंकों वाले हों। उच्चाभिमानी स्त्रीत्व, स्त्रीत्व का प्रकाश होना चाहिए।’

स्वास्थ्य को खराब करने वाला ने कहा, आपात स्थिति से निपटने के लिए

खराब स्थिति में खराब होने पर खराब होने पर खराब स्थिति होगी। इस मामले में कोई भी समस्या नहीं है। मोदी मोदी का कहना है कि जब देश के 130 करोड़ आगे एक कदम आगे बढ़ें तो आगे देश को आगे बढ़ाया जाए।

संबंधित खबरें

.

Related Articles

Back to top button