Lifestyle

Pradosh Vrat June 2021when Is First Pradosh Vrat Of June Know Date Time Puja Vidhi Importance Significance

प्रदोष व्रत जून 2021: हिंदू धर्म के हिसाब से प्रदोष काल में शंकर शंकर की पूजा करना महत्वपूर्ण होता है और वे इसी समय होते हैं। प्रदोष काल हर माह की त्रयोदशी को. साल 2021 के जून माह का पहला प्रदोष व्रत 7 जून सोमवार को होगा। प्रदोष का प्रदोष काल में शिव चालीसा, शिव पुराण और शिव मंत्र जाप उत्तम उत्तम है। क्रिया के हिसाब से प्रदोष काल उपाध्याय के काम का काम बनेंगे। शंकर जी के रोग से संबंधित सभी रोग दूर होते हैं। घर में सुख-शांति और समृद्धि का वास है। सोम प्रदोष व्रत है।

जून का पहला प्रदोषी व्रत कब है? तारीख और समय

नवंबर का पहला प्रदोष व्रत 7 नवंबर 2021 कल सुबह बजे बजकर 48 की से शुरू सुबह सुबह 11 बजे से सुबह तक बजकर 24 घंटे तक।

प्रदोषी व्रत का शुभ मुहूर्त

पंचांग के हिसाब से, प्रदोष कालसूर्य के 45 मिनट और सूर्यदेव के 45 मिनट पूरा होने तक। सनातन धर्म शास्त्रों के अनुसार प्रदोष काल में भोलेनाथ की पूजा करते हैं अन्य प्रकार के दुख मिन्टी हैं। इस काल शिव जी की पूजा का कार्य शुभ फली है।

पूजा विधि

प्रदोष व्रत के दिन प्रातःकाल उठकर निकर्म स्नानादि पूजा स्थल पर भगवान शिव की मूर्ति प्रतिष्ठापन करते हैं। कुछ भी बाहरी रूप से संक्रमित शिव और माता पार्वती को चंदन, अक्षत, दक्षिणी, दक्षिणी और अवेवेद्य। मां पार्वती को लाल चुनरी और सुहाग का असर. का संकल्प ले। अब आरती करें। पूरे दिन पूजा का दिन।

.

Related Articles

Back to top button